PNB घोटाला: नीरव मोदी पोंजी जैसी योजना चला रहा था, भारतीय अधिकारियों की पैरवी कर रही वकील ने ब्रिटेन की अदालत में दी दलील


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली17 दिन पहले

  • कॉपी लिंक

नीरव मोदी ने साउथ-वेस्ट लंदन के वांड्सवर्थ जेल के अपने कमरे से वीडियोलिंक के जरिये इस सुनवाई में हिस्सा लिया

  • ब्रिटेन का डिस्ट्रिक्ट कोर्ट नीरव मोदी से जुड़े प्रत्यर्पण मामले में अंतिम दौर की सुनवाई कर रहा है
  • भारतीय अधिकारियों की ओर से क्राउन प्रॉसिक्यूशन सर्विस (CPS) ने मामले की पैरवी की

वांटेड भगोड़ा हीरा कारोबारी नीरव मोदी पोंजी जैसी एक योजना के लिए जिम्मेदार है, जिसके कारण पंजाब नेशनल बैंक (PNB) में एक बड़ी धोखाधड़ी हुई। यह बात शुक्रवार को ब्रिटेन की एक अदालत में कही गई। अदालत इससे जुड़े प्रत्यर्पण मामले में अंतिम दौर की सुनवाई कर रही थी।

दो दिवसीय सुनवाई का यह दूसरा दिन था। नीरव मोदी ने साउथ-वेस्ट लंदन के वांड्सवर्थ कारावास के अपने कमरे से वीडियोलिंक के जरिये इस सुनवाई में हिस्सा लिया। भारतीय अधिकारियों की ओर से क्राउन प्रॉसिक्यूशन सर्विस (CPS) ने मामले की पैरवी की।

नीरव मोदी के वकील ने मामले को सिर्फ एक कमर्शियल डिस्प्यूट साबित करने की कोशिश की

डिस्ट्रक्ट जज सैमुअल गूजी के सामने जो साक्ष्य पेश किए गए, उन्हें पहले भी लंदन के वेस्टमिनिस्टर मजिस्ट्रेट्स कोर्ट में कई दौर की हो चुकी सुनवाई में पेश किया जा चुका है। कोरोनावायरस लॉकडाउन के कारण रिमोट कोर्ट प्रॉसिडिंग्स में CPS की वकील हेलेन मैलकॉम ने कहा कि सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि नीरव मोदी ने अपनी तीन पार्टनरशिप कंपपनियों के जरिये अरबों डॉलर के अनसेक्योर्ड कर्ज और लेटर ऑफ अंडरटेकिंग्स (LoU) हासिल किए थे। नीरव मोदी के वकील ने कहा कहा कि यह सिर्फ एक कमर्शियल विवाद है और ऐसे पोंजी स्कीम के ऐसे अनेक प्रमाण हैं जो बताते हैं कि पुराने LoU का चुकता करने के लिए नए LoU लिए गए।

जज अब फैसला देने की तारीख तय कर सकते हैं

पोंजी स्कीम एक ऐसे निवेश घोटाला को कहा जाता है, जिसमें पुराने निवेशकों के पैसे वापस करने के लिए नए निवेशकों से फंड जुटाए जाते हैं। CPS ने यह साबित करने की कोशिश की कि नीरव मोदी ने PNB के अधिकारियों के साथ मिलीभगत कर LoU का उपयोग करने के लिए अपनी कंपनियों डायमंड RU, सोलर एक्सपोर्ट्स और स्टेलर डामंड्स का उपयोग किया। माना जा रहा है कि शुक्रवार की सुनवाई के बाद जज फैसला देने के लिए तिथि तय करेंगे।

नीरव मोदीद 19 मार्च 2019 से जेल में है

नीरव मोदी 19 मार्च 2019 को गिरफ्तार होने के बाद से जेल में है। उसने बार जमानत हासिल करने की कोशिश की थी, लेकिन हर बार उसकी याचिका खारिज हो गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *