NOC घूसकांड मामला: निलंबित IAS इंद्रसिंह राव और उनके PA महावीर ने कोर्ट में पेशी के दौरान वॉइस सैम्पल देने से मना किया, बैरंग लौटी FSL टीम


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोटा14 दिन पहले

  • कॉपी लिंक

कोर्ट में पेशी के दौरान वकील से बात करते हुए निलंबित IAS इंद्र सिंह राव।

बारां में NOC घूसकांड में न्यायिक अभिरक्षा पर चले रहे निलंबित आईएएस इंद्रसिंह राव और उनके पीए महावीर ने कोर्ट में पेशी के दौरान वॉइस सैम्पल देने से मना कर दिया। इसके चलते वॉइस सैम्पल लेने पहुंची एफएसएल की टीम को बैरंग ही लौटना पड़ा। एसीबी ने निलंबित आईएएस अधिकारी इंद्र सिंह राव व पीए महावीर नागर के वॉइस सैम्पल की जांच के लिए कोर्ट में अर्जी लगाई थी। सोमवार को दोनों को जेल से पीसीपीएनडीटी कोर्ट में पेश किया गया।

एसीबी निरीक्षक रमेश आर्य ने बताया कि दोनों आरोपियों के वॉइस सैम्पल की अर्जी कोर्ट में लगाई थी। एफएसएल की दो सदस्य टीम भी पहुंच गई थी। लेकिन दोनों आरोपियों ने वॉइस सैम्पल देने से इनकार कर दिया। दरअसल, इंद्र सिंह राव व महावीर प्रसाद नागर की रिश्वत के मामले में कई बार मोबाइल पर बात हुई थी। जिसकी रिकॉर्डिंग भी एसीबी के पास है। दोनों के बीच मोबाइल पर हुई बातचीत की पुष्टि करने के लिए एसीबी इंद्र सिंह राव और पीए महावीर प्रसाद नागर के वॉइस सैंपल लेकर उनकी एफएसएल जांच करवाना चाहती थी।

गौरतलब है कि कोटा एसीबी ने पेट्रोल पंप की एनओसी जारी करने की एवज में 10 दिसम्बर को बारां के तत्कालीन कलेक्टर के पीए महावीर प्रसाद को 1 लाख 40 हजार की रिश्वत लेते ट्रैप किया था। 23 दिसंबर को पूछताछ के बाद इंद्र सिंह राव को गिरफ्तार किया था। फिलहाल, दोनों आरोपी कोटा सेंट्रल जेल में बंद है। कोर्ट ने दोनों को 20 जनवरी तक न्यायिक अभिरक्षा में रखने का आदेश दिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *