5 माह की गर्भवती की गोली लगने से मौत: परिजन बोले- सास मृतका काे देवराें के साथ शारीरिक संबंध बनाने का दबाव डालती थी, उन्हीं ने ही मारा


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

श्रीगंगानगर19 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

मृतका पल्लवी छाबड़ा (27) के परिजनाें का कहना है कि उसका 8 माह पहले ही 17 मई 2020 काे रविदास नगर के अंशुल छाबड़ा के साथ विवाह हुआ था।

श्रीगंगानगर के रविदास नगर में रविवार काे दिल दहला देने वाली घटना हुई। यहां एक गर्भवती महिला की गोली लगने से मौत हो गई। मृतक के परिजनों का आरोप है कि उसके देवर ने अपने साथियाें के साथ गाेली मारकर हत्या की है। गाेली चलने की आवाज से इलाके में दहशत की स्थिति बनीं। लेकिन, जब तक घटना का पता चलता, आराेपी माैके से फरार हाे गए।

मृतक पल्लवी छाबड़ा (27) के परिजनाें का कहना है कि उसका 8 महीने पहले ही 17 मई 2020 काे रविदास नगर के अंशुल छाबड़ा के साथ विवाह हुआ था। मृतका पांच माह की गर्भवती भी थी। घटना सुबह करीब 9:40 बजे की बताई जा रही है। लेकिन, परिजनाें काे इसकी सूचना अन्य परिचितों से करीब 11 बजे के आसपास मिली।

पुलिस का कहना है कि मृतका के पिता हेमराज मिढा निवासी वार्ड नंबर 26 अनूपगढ़ द्वारा जवाहरनगर थाने में मुकदमे के लिए परिवाद दिया, लेकिन मामला महिला का हाेने की वजह से मुकदमा महिला थाने में दर्ज हुआ है।

घटना की सूचना मिलते ही जवाहरनगर थाना प्रभारी विश्वजीत सिंह ने भी माैका निरीक्षण किया। पुलिस का कहना है कि घटना स्थल पर पहुंचने से पहले ही परिजन विवाहिता काे जिला अस्पताल ले जा चुके थे। पुलिस ने घटना के कुछ ही समय बाद सास मीना देवी, छाेटे देवर ईशान काे राउंडअप कर लिया है। वहीं, मृतका का पति अंशुल दाे-तीन दिन पहले ही किसी अन्य मामले में गिरफ्तार हाे चुका है।

पिता बाेले- सास मीना देवी पल्लवी काे देवराें के साथ शारीरिक संबंध बनाने का दबाव डालती थी
मृतका पल्लवी के पिता हेमराज मिढा ने पुलिस काे बताया कि बेटी के विवाह पर हैसियत के अनुसार उपहार दिए। लेकिन विवाह के कुछ ही दिनाें बाद उसके ससुर श्यामसुंदर छाबड़ा का देहांत हाे गया। इसके बाद से ही ससुराल के लाेग पल्लवी काे परेशान करने लग गए, उसे अपशगुनी कहा जाने लगा। सास मीना देवी, देवर अनमाेल व ईशान व उसका पति अशुंल मारपीट करने लगे। बेटी काे लगातार देहज में साेना, गाड़ी, एसी व अन्य सामान की मांग की। साथ ही शारीरिक रूप से भी प्रताड़ित किया जाने लगा। सास मीना देवी द्वारा बेटी पल्लवी काे देवर अनमाेल व ईशान के साथ शारीरिक संबंध बनाने का दबाव बनाती थी। मना करने पर बुरी तरह से मारपीट करते थे। बेटी द्वारा कई बार कहा गया कि वह पांच माह के गर्भ से है, लेकिन वे मारपीट करने में झिझकते नहीं थे।

शनिवार रात 10 बजे बेटी ने खुद बताया कि ससुराल वाले मारपीट करते हैं, सुबह ही रची साजिश
पल्लवी के परिवार का कहना था कि बेटी शादी के बाद से खुश नहीं थी। परिवाद में यह भी लिखा गया है कि सुबह ही पल्लवी काे मारने के लिए साजिश रची गई। लगभग सुबह 9:30 से 10 बजे के बीच पल्लवी की सास, दाेनाें देवर व देवर का मित्र पारस जुनेजा व अन्य एक और के साथ घर में ही माैजूद थे। बच्ची काे प्रतिाड़ित करने की साजिश रच रहे थे। पल्लवी ने शनिवार रात 10 बजे ही बताया था कि ससुराल के लाेग प्रताड़ित कर रहे हैं। ससुराल वाले उसे कहीं जाने भी नहीं दे रहे थे, बंधक बना रखा था। सुबह ही आराेपियाें ने बेटी की गाेली मारपकर हत्या कर दी।

प्रत्यक्षदर्शी…शिल्पा बाेली- गाेली की आवाज सुन घर पहुंची ताे बताया पल्लवी ने खुद के गाेली मार ली है
प्रत्यक्षदर्शी शिल्पा का पल्लवी के घर के साथ ही मकान है। शिल्पा ने बताया कि शनिवार की रात पल्लवी छत पर मिली थी। सारी बात बताई, लेकिन यह भी कहा कि दीदी किसी काे कुछ नहीं बताना। सुबह के करीब 9:40 बजे हाेंगे, पल्लवी के घर से गाेली की आवाज सुनाई दी। इस पर दाैड़कर उसके घर गई ताे दरवाजा अंदर से बंद था। जाेर जाेर से आवाज लगाई ताे सास ने दरवाजा खाेला और देखते ही बाेली की पल्लवी ने खुद पर गाेली चला दी है। अन्य लाेग फर्श पर फैले खून के निशान मिटाने में लगे हुए थे। इसी दाैरान बड़ा देवर अनमाेल वहां से तेजी से बाहर भाग गया। पल्लवी के सीने पर गाेली लगी हुई थी।

गुस्साए परिजन धरने पर बैठे। शव लेने से किया इनकार।

गुस्साए परिजन धरने पर बैठे। शव लेने से किया इनकार।

गुस्सा इतना की लाेग बाेले, गिरफ्तारी हाेने तक शव का पाेस्टमार्ट नहीं कराएंगे
परिजनाें में घटना के बाद से बेहद गुस्सा था। पुलिस की कार्यशैली पर भी सवाल उठाए। उनका कहना था कि पुलिस काे घटना की जानकारी मिल चुकी थी, किस वाहन से भागे यह भी जानकारी थी, लेकिन नाकाबंदी या अन्य तरीके से आराेपियाें तक पहुंचने का प्रयास नहीं किया। वार्ड 52 के पार्षद विजेंद्र स्वामी, वार्ड के दीपक बबेजा, भूपेंद्र काैर टूरना, सीता स्वामी व पीहर पक्ष से आए करीब 40-50 लोगों ने विराेध में हाइवे से लगता जिला अस्पताल का मुख्य द्वार बंद कर धरना लगा दिया।

(रिपोर्ट- दीपक शर्मा, श्रीगंगानगर)

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *