हाईप्रोफाइल केस: दुष्कर्म केस में NIMS यूनिवर्सिटी के चांसलर को ब्लेकमेलिंग करने में पत्नी डॉक्टर शोभा तोमर भी गिरफ्तार


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जयपुरएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

निम्स यूनिवर्सिटी के चांसलर डॉ. बीएस तोमर को ब्लेकमेल करने के मुकदमे में मंगलवार को पुलिस ने उनकी पत्नी को ही गिरफ्तार कर लिया।

  • जयपुर में अशोक नगर थाना पुलिस ने सोमवार को दो युवकों को भी किया था गिरफ्तार
  • डॉ. बीएस तोमर से मांग रहे थे 15 करोड़ रुपए, 25 लाख रुपए वसूले चुके थे दोनों आरोपी
  • अक्टूबर 2019 में डॉ. बीएस तोमर ने पत्नी और बेटे सहित 12 लोगों पर दर्ज करवाया था केस

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (NIMS) के चांसलर डॉ. बीएस तोमर के खिलाफ डेढ़ साल पहले दुष्कर्म का केस दर्ज करवाकर ब्लेकमेलिंग केस में पुलिस ने डॉ. शोभा तोमर को मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया। डॉ. शोभा तोमर मुकदमा दर्ज करवाने वाले डॉ. बीएस तोमर की पत्नी है। तोमर ने पत्नी व बेटे सहित 12 जनों के खिलाफ जयपुर पुलिस कमिश्नरेट के अशोक नगर थाने में केस दर्ज करवाया था। केस का अनुसंधान जयपुर पुलिस कमिश्नरेट में थेफ्ट एंड बर्गलरी के एडिशनल डीसीपी अकलेश कुमार शर्मा कर रहे है।

इसी मुकदमे में नामजद दो आरोपियों पूरणचंद राव (40) जो कि मुंडिया रामसर, झोटवाड़ा जयपुर का रहने वाला है। यहां विधायकपुरी स्थित धुलेश्वर गार्डन कॉलोनी में रहता है और दूसरे आरोपी वीर सिंह यादव (27) निवासी गांव बखराणा, कोटपूतली हाल खादी कॉलोनी, सोडाला में रहता है। आरोपियों से मुकदमे में नामजद अन्य आरोपियों की भूमिका के बारे में पूछताछ के बाद डॉ. शोभा तोमर को मंगलवार को गिरफ्तार किया गया। ये दोनों पत्रकारिता से जुड़े होने की बात सामने आई है।

सोमवार को गिरफ्तार हुए पूरण सिंह और वीर सिंह

सोमवार को गिरफ्तार हुए पूरण सिंह और वीर सिंह

यह है पूरा मामला

लांबा ने बताया कि निम्स मेडिकल यूनिवर्सिटी, चन्दवाजी जयपुर के चांसलर डॉ. बलवीर सिंह तोमर ने पत्नी शोभा तोमर, बेटे डॉ. अनुराग तोमर, बीबी अग्रवाल, राजेश भदौरिया, अजीत भदौरिया, नेहा खान, वीर सिंह, पूरण सिंह राव, मिंटू यादव, वीके शर्मा, धनंजय सिंह, जितेन्द्र उनियाल सहित करीब 12 नामजद लोगों के खिलाफ यौन शोषण के फर्जी मुकदमे में फंसाकर 15 करोड़ रुपए की अवैध वसूली की मांग करने का आरोप लगाया था। डाॅ. बीएस तोमर ने 12.10.2019 को अशोक नगर थाने में मुकदमा दर्ज करवाया था।

इस केस का अनुसंधान एडिशनल एसपी अकलेश कुमार शर्मा को सौंपा गया। इसमें सामने आया कि आरोपियों ने कथित पीड़िता युवती और परिवादी डॉ. बीएस तोमर के बीच सहमति से बने शारीरिक संबंधों की गोपनीय तरीके से वीडियो बनाई गई। इसके करीब पांच महीने बाद अशोक नगर थाने में दुष्कर्म का केस दर्ज करवाया गया। इसके बाद डॉ. बीएस तोमर को मुकदमे में फंसाकर रुपयों की मांग की गई।

तब डॉ. बीएस तोमर की तरफ से दर्ज मुकदमे के अनुसंधान में सामने आया कि आरोपी पूरण सिंह राव द्वारा 25 लाख रुपए की राशि की अवैध वसूली परिवादी डॉ. बलवीर सिंह तोमर से की गई। अवैध वसूली के लिए आरोपी पूरण सिंह राव व वीर सिंह ने परिवादी बीएस तोमर की कानूनी प्रतिनिधि सुशीला चाहर से मोबाइल फोन कॉल एवं वॉट्सएप चैट व कॉल के जरिए संपर्क करने के बाद आमने-सामने बैठकर इस रकम की मांग की गई।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *