हरियाणा से हाे रही डीजल की तस्करी: राजस्थान में रोज आ रहा 7.5 लाख लीटर अवैध डीजल, सरकार को हर महीने 44.33 करोड़ रु. का नुकसान


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बीकानेरएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

हरियाणा के नीमला गांव के पंप से ड्रम में डीजल भरते।

पेट्रोल और डीजल के बढ़ते दामों के कारण हरियाणा-पंजाब से सस्ता डीजल लाकर लोग राजस्थान के विभिन्न जिलों में सप्लाई कर सरकार को करोड़ों रुपए के टैक्स का चूना लगा रहे हैं। भास्कर की टीम ने बीकानेर संभाग के श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़ और चूरू की सीमा से लगते हरियाणा के 75 पेट्रोल पंपों की पड़ताल की, तो सामने आया कि एक पंप से हर दिन औसतन दस हजार लीटर डीजल की राजस्थान में सप्लाई हाे रही है।

यानी सभी पंपों से साढ़े सात लाख लीटर डीजल संभाग के चारों जिलों में अवैध बिक रहा है। इससे राजस्थान सरकार को हर महीने करीब 44 करोड़ 33 लाख 25 हजार रुपए वैट व अन्य कराें का नुकसान उठाना पड़ रहा है। यदि झुंझुनूं, अलवर और भरतपुर को भी शामिल किया जाए तो यह आंकड़ा सौ करोड़ तक पहुंचता है।

भास्कर ने बीकानेर से हरियाणा तक तेल के इस खेल को लाइव देखा तो हैरान कर देने वाली बातें सामने आईं। इस 400 किमी इलाके में पुलिस के 16 थाने और चौकियों को धत्ता बताते हुए रोज 45 हजार लीटर से अधिक डीजल अवैध रूप से बीकानेर लाकर बेचा जा रहा है।

श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़ और चूरू की सीमा से सटे हरियाणा के बॉर्डर पर राजस्थान नंबर की गाड़ियों में प्लास्टिक के ड्रम रखे दिखाई दिए। उनमें डीजल भरा जा रहा था। कुछ पंपों पर टीम को देखते ही लोग सतर्क हो गए और गाड़ियां हटा ली। लोग बाइक पर भी ड्रम रखकर डीजल ला रहे थे।

बिना नंबर की गाड़ियों से ऐसे होती है तस्करी।

बिना नंबर की गाड़ियों से ऐसे होती है तस्करी।

रास्ते में डीजल से लदी गाड़ियां 110-120 की स्पीड से दौड़ती नजर आईं। एक पंप संचालक ने बताया कि इन दिनों सख्ती ज्यादा है, इसलिए दिन में कम गाड़ियां निकलती हैं। असली खेल रात 12 बजे बाद शुरू होता है। मतलब साफ है बिना पुलिस की मिलीभगत के यह अवैध करोबार संभव नहीं है।

^हरियाणा से डीजल की तस्करी के कारण सीमावर्ती क्षेत्र के कई पेट्रोल पंप बंद हो गए और कुछ बंद होने के कगार पर हैं। पिछले दो साल में रोज ढाई हजार लीटर डीजल बेचने वाले पंपों पर अब 400-500 लीटर डीजल ही बिक रहा है। सरकार को अवैध कारोबार पर सख्ती करते हुए इस पर रोक लगानी चाहिए।
-हरी गोदारा, प्रतिनिधि, राजस्थान पेट्रोल-डीजल एसोसिएशन

^बीकानेर में डीजल तस्करी का फिलहाल काेई इनपुट हमें नहीं मिला है। दूसरे जिलाें की सीमाओं पर नाके लगे हुए हैं। काेई इनपुट मिला ताे कार्रवाई की जाएगी।
-प्रीति चंद्रा, एसपी, बीकानेर

दूसरे राज्य से डीजल नहीं ला सकते : डीएसओ
बीकानेर डीएसओ यशवंत भाखर और हनुमानगढ़ डीएसओ राकेश न्यौल ने बताया कि आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत पुलिस और ऑयल कंपनी को भी कार्रवाई करने का अधिकार है। न्यौल ने बताया कि दूसरे राज्य से डीजल लाने पर प्रतिबंध है।

जहां तक किसान की बात है तो यह देखने भर से ही पता चल जाता है कि पिकअप में डीजल लाने वाला किसान है या तस्कर। उन्होंने बताया कि हमने हनुमानगढ़ में चार माह में 18 छापे मारे हैं। 28736 लीटर डीजल, 291 लीटर पेट्रोल और 11 वाहन जब्त किए हैं। एक पेट्रोल पंप भी सीज किया है। इसके अलावा सात दुकानों पर भी कार्रवाई की है। हर जिले में रसद, पुलिस और कंपनी के अधिकारी मिलकर कार्रवाई करें तो इस पर अंकुश लग सकता है।

ऐसे समझें डीजल की तस्करी से राजस्थान सरकार को वैट के नुकसान का गणित
75 पेट्रोल पंप हैं इस इलाके में। हर पेट्रोल पंप से राेज औसतन 10 हजार लीटर डीजल की बिक्री के हिसाब से 7.5 लाख लीटर डीजल राजस्थान में सप्लाई हो रहा है। हरियाणा में डीजल 82.16 रुपए प्रति लीटर है, जबकि बीकानेर में अर्जुनसर पंप पर डीजल 92.78 रुपए है।

इस कीमत से आंकलन करें तो एक दिन में हरियाणा से 6 करोड़ 95 लाख 85 हजार रुपए का डीजल राजस्थान के लोग खरीद रहे हैं। राज्य में 26% वैट है। यानी एक लीटर डीजल के बेस प्राइज में 17.95 रुपए वैट और 1.75 रुपए सेस जाेड़ा जाता है। हरियाणा से तस्करी के 7.5 लाख लीटर डीजल से टैक्स की गणना करने पर एक दिन में तकरीबन एक करोड़ 47 लाख 77 हजार 500 रुपए तथा एक महीने में 44 करोड़ 33 लाख 25 हजार रुपए का टैक्स का नुकसान सरकार काे हाे रहा है।

कोलायत तक हाेती है सप्लाई
हरियाणा के डीजल से लदी 15 पिकअप गाड़ियां रोज आती हैं। एक गाड़ी में 10 से 12 प्लास्टिक के ड्रम होते हैं। इन ड्रमों में तीन हजार लीटर तक डीजल भरा रहता है। इस हिसाब से करीब 45 हजार लीटर डीजल अवैध रूप से बीकानेर में बेचा जा रहा है। इसमें से 25 हजार लीटर डीजल की सप्लाई तो अकेले कोलायत में हो रही है। वहां खनन कार्य में चलने वाली गाड़ियों में इसका उपयोग हो रहा है। इसके अलावा नोखा, छत्तरगढ़, लूणकरणसर, खाजूवाला, पूगल तक यह पहुंच रहा है।

अर्जुनसर में बना रखे हैं गोदाम
बीकानेर में डीजल अर्जुनसर के रास्ते से लाया जाता है। डीजल माफिया ने अर्जुनसर में गोदाम बना रखे हैं। बस स्टैंड पर भी कुछ दुकानें ऐसी हैं, जिनमें पिकअप सीधी अंदर तक जाती और शटर बंद कर दिया जाता है। बाद में यह डीजल चोरी छिपे बेचा जाता है। पल्लू मेगा हाइवे पर चल रहे भारतमाला प्रोजेक्ट के काम में भी हरियाणा के डीजल का उपयोग होने की बात सामने आई है।

राजस्थान में पेट्रोल-डीजल महंगा होने के प्रमुख कारण

  • राजस्थान में वैट डीजल पर 26% और पेट्रोल पर 36% है। हरियाणा में डीजल पर 17.22%, पेट्रोल पर 25% तथा पंजाब में डीजल पर 15.15% व पेट्रोल पर 23% वैट व टैक्स है।
  • राजस्थान में बायो डीजल, बेस ऑयल, मिनरल ऑयल धड़ल्ले से बिक रहा है। अनाधिकृत बाउचर के माध्यम से सड़क किनारे ही आपूर्ति की जा रही है। हनुमानगढ़ में अवैध पंप भी सीज किया गया है। बायो डीजल पर रोक लगनी चाहिए।
  • भारी वाहनों के ईंधन की टंकियों में परिवर्तन पर कार्रवाई होनी चाहिए। हरियाणा, पंजाब से सस्ता डीजल लेने के लिए वाहनों में 400 लीटर से अधिक का एक टैंक अतिरिक्त लगाया जाता है। इसके अलावा दो ड्रमों में भी डीजल का स्टॉक रहता है। इससे वाहनों को राजस्थान के पंपों से डीजल लेने की जरूरत नहीं पड़ती।

भास्कर टीम ने ग्राहक बन तस्कर से डील की तो बोला-थानों की बंदी भी तो देखनी पड़ती है

Q| कोलायत में सस्ता डीजल चाहिए। सप्लाई दे सकोगे।
A| मिल जाएगा। कितना चाहिए।
Q| तुम रोज कितना भेज सकते हो।
A| जितना कहाेगे, भिजवा दूंगा। मात्रा बताओ।
Q| दस से 15 हजार लीटर ले लेंगे। वहां काफी गाड़ियां हैं। क्या भाव पड़ेगा।
A| आपको राजस्थान के पंप से तीन से पांच रुपए सस्ता मिल जाएगा। यहां से कोलायत तक गाड़ियां जाती हैं।
Q| रेट सही लगाओ।
A| रेट तो तय करनी पड़ेगी साब। रास्ते के सभी थानों को भी देखना पड़ेगा।
Q| पुलिस की जिम्मेदारी हमारी नहीं है।
A| इसलिए तो यह रेट बता रहा हूं। तेल ज्यादा चाहिए तो मुझे आगे बात करनी होगी।
Q| तुम्हें कितने में पड़ता है डीजल।
A| हमें एक लीटर पर 9 रुपए बचते हैं। इसके अलावा हरियाणा के पंप प्रति लीटर दो रुपए कमीशन भी देते हैं।
Q| फिर तो काफी कमा लेते हो। पुलिस का डर नहीं लगता।
A| (मुस्कुराते हुए) सबका देखना पड़ता है। जरूरत हो तो मुझे फोन कर देना।

हरियाणा के इन 7 जिलाें से चलता है डीजल तस्करी का बड़ा नेटवर्क
1. हनुमानगढ़ – सिरसा, फतेहाबाद, हिसार
2. हनुमानगढ़, झुंझुनूं और चूरू – भिवानी
3. जयपुर, सीकर,अलवर, झुंझुनूं – महेंद्रगढ़
4. अलवर – रेवाड़ी
5. भरतपुर, अलवर – नूह (मेवात)
6. पंजाब के फाजिल्का और मुक्तसर से श्रीगंगानगर में साधुवाली, पतली बॉर्डर, लालगढ़ मार्ग से आ रहा है अवैध डीजल

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *