सीकर में बंद एमरजेंसी सेवा: 8 बजे के बाद सरकारी एंबुलेंस कर्मचारियों ने काम बंद किया, मानदेय और ड्यूटी टाइम कम करने पर अड़े


  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sikar
  • The Issue Of Government Ambulance Facility, Honorarium And Duty Time Of Employees Has Been Closed Since Eight O’clock

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सीकर31 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

एंबुलेंस एमरजेंसी सुविधा है, इसमें 108 एंबूलेंस को जीवीके ईएमआरआई और 104 एंबूलेंस को मॉडर्न एंबुलेंस सर्विसेज संचालित कर रही है।- फाइल फोटो।

आठ घंटे की ड्यूटी और मानदेय में 20 प्रतिशत की बढ़ोतरी की मांग को लेकर चल रही एंबुलेंस कर्मचारियों ने रात 8 बजे से चक्का जाम कर दिया। कर्मचारियों का कहना है कि उनकी मांग को कोर्ट ने भी मंजूर करते हुए सरकार को आदेश दिया है, लेकिन अफसर इसे टाल रहे हैं। जब तक हमारी मांग नहीं मानी जाएगी 108 और 104 एंबूलेंस नहीं चलेंगी।

बता दे कि एंबुलेंस एमरजेंसी सुविधा है, इसमें 108 एंबूलेंस को जीवीके ईएमआरआई और 104 एंबूलेंस को मॉडर्न एंबुलेंस सर्विसेज संचालित कर रही है। सीकर में 26 एंबुलेंस 108 और 13 एंबूलेंस 104 की चलती है। जिलाध्यक्ष मुकेश शेषमा का कहना है कि ऐसा नहीं है कि एंबुलेंस का चक्का जाम सीकर में ही है, बल्कि पूरे प्रदेश में हमारी यूनियन ने चक्का जाम ​करने का फैसला किया है।

कंपनी से हुई बेनतीजा वार्ताशेषमा का कहना है कि यूनियन पदाधिकारियों ने कंपनियों से बातचीत की थी। रात को आठ बजे उनके साथ हुई वार्ता में कोई ठोस हल नहीं निकला, इसके बाद सभी एंबुलेंसकर्मी हड़ताल पर चले गए। कर्मचारी 24 घंटे में दो टीम ही काम कर रही है यानी एक टीम को 12 घंटे से अधिक काम करना पड़ रहा है। वहीं इसके बदले में ओवरटाइम भी नहीं दिया जा रहा।

प्रदर्शन करेंगे कर्मचारी
मांगों को मानने को लेकर पूरे प्रदेश में 108 बंद करने की पहले से तैयारी थी, वार्ता फेल होने के बाद सभी कर्मचारियों ने एंबुलेंस को दफ्तर में खड़ा कर दिया है। वहीं सभी कर्मचारी जयपुर में एकत्र होकर 22 गोदाम स्थित कंपनी दफ्तर पर धरना देंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *