सीएम का विरोधियों पर निशाना: गहलोत बोले, मुख्यमंत्री बनने के लिए जिंदगी में वेल्यू बेस राजनीति करनी पड़ती है, ऐसे ही कोई सीएम नहीं बनता है


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जयपुरएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

सीएम अशोक गहलोत ने बजट बहस के जवाब के दौरान विरोधियों पर चुन-चुन कर जुबानी हमले किए

  • भाजपा के नेताओं ने शेखावत सरकार गिराने का दो बार प्रयास किया, हमने साथ नहीं दिया : गहलोत

विधानसभा में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बजट बहस पर जवाब देते हुए भाजपा और पार्टी के भीतर अपने विरोधियों को निशाने पर लिया। गहलोत ने जुलाई में सरकार पर आए संकट को लेकर भाजपा नेताओं और विरोधियों पर निशाना साधते हुए कहा, जिंदगी में मुख्यमंत्री बनने के लिए वेल्यू बेस राजनीति करनी पड़ती है। ऐसे ही कोई मुख्यमंत्री नहीं बनता हैं । वेल्यू बेस राजनीति नहीं करोगे तो मुख्यमंत्री के उम्मीदवार बनकर रह जाओगे। चाहे केंद्र में बैठे नेता हैं या राज्य में बैठे नेता हैं, एक भी नहीं बनेगा। याद रखना, वही बनेगा जो वैल्यू बेस राजनीति करेगा।

गहलोत ने भाजपा नेताओं पर तंज कसते हुए कहा, सरकार गिराने को क्या-क्या नहीं कर रहे थे आप लोग। यह तो भला हो कैलाश मेघवाल का जिन्होंने टाइम पर स्टेटमेंट दे दिया कि राजस्थान में इस तरह की परंपरा नहीं है, उसका असर पड़ा है लोगों पर।आपके नेताओं ने पोरबंदर ले जाने की कोशिश की, दो-दो हवाई जहाज एयरपोर्ट पर खड़े किए ले​किन एक में भी कुछ ही लोग आ पाए क्या बेइज्जती हुई थी आप लोगों की उस वक्त।

अमित शाह का साथ देने वाले कई चेहरे यहां बैठे हैं, उन्हें मैं जानता हूं
गहलोत ने कहा, अमित शाह का साथ देने वाले कई चेहरे यहां बैठे हैं, उन्हें मैं जानता हूं। यहां बैठे कई शरीफ लोगों पर संगत का असर हो गया। साथ मत दिया करो। आपकी पार्टी के लोगों ने हमसे भैरासिंह शेखावत सरकार गिराने के लिए समर्थन मांगा था लेकिन हमने मना कर दिया। आपकी ही पार्टी के लोगों ने दो बार शेखावत सरकार गिराने का प्रयास किया था। हमने कहा, नहीं हम इन बातों में नहीं पड़ते हैं। याद है विधायकों को चौखी ढाणी ले गए थे। हमने उस वक्त सरकार बचाने का प्रयास किया था।

दल बदल कानून की गली हॉर्स ट्रेडिंग के रूप में निकाल ली

गहलोत ने कहा, दल बदल कानून की गली हॉर्स ट्रेडिंग के रूप में निकाल ली। गली निकालने में आपके नेता माहिर हैं। होर्स ट्रेडिंग नहीं हुई तो राज्यसभा के चुनाव कैंसिल करवा दिए। राज्यसभा की दो सीट गुजरात में थी, दो सीटों पर कभी अलग अलग चुनाव नहीं होते, लेकिन होर्स ट्रेडिंग से दोनों सीट जीतने के लिए ऐसा किया गया।
आज देश में हिटलरशाही का तांडव हो रहा है
गहलोत ने उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ पर तंज कसते हुए कहा, सदन में हिटलर तक बात आ गई। हिटलरशाही दिल्ली में चल रही है या राजस्थान में चल रही है। आपकी सोच पहले वो नहीं थी जो अब है। संगत का असर हो गया। जिस पार्टी से आप आए हो उपनेता प्रतिपक्ष वह किसानों की पार्टी थी। आज देश में हिटलरशाही का तांडव हो रहा है। अचानक रात 8 बजे नोट बंद कर दिए, रात 12 बजे जीएसटी लागू कर दी गई। आज लोगों की दुर्गती हो रही है। किसानों के तीन कानून बन गए, विरोध में किसान ठंठ में बैठे हैं, कोई कहने वाला नहीं। उनकी आवाज उठाने वालों को आंदोलनजीवी कह दिया।

पूनिया को सीएम ने कहा चिरंजीवी
गहलोत ने सतीश पूनिया से कहा, आमेर से आने वालों ने आंदोलनजीवी शब्द इस्तेमाल किया। हम आपको चिरंजीवी कहेंगे, हम तो आपके आगे बढने की शुभकामनाएं देंगे।

कटारिया पर तंज, कहा, अब तो किरण माहेश्वरी के प्रति पूर्वाग्रह छो​ड़िए
गहलोत ने गुलाबचंद कटारिया पर तंज कसते हुए कहा, नेता प्रतिपक्ष आपने किरण माहेश्वरी के नाम पर कॉलेज खोलने का विराोध कर दिया। अब तो आप पूर्वाग्रह छोड़ो, अब माहेश्वरी इस दुनिया में नहीं है। चार कन्या कॉलेज चार दिवंगत विधायकों के नाम पर करने को लेकर आपके कमेंट समझ से परे हैं।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *