शिक्षा: छात्राएं अब 20 फरवरी तक कर सकेंगी गार्गी पुरस्कार के लिए आवेदन


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भरतपुर4 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • गार्गी पुरस्कार के लिए आवेदन में ओटीपी की नहीं होगी जरूरत, अब जो आवेदन करेंगे उन्हें बाद में पुरस्कार दिया जाएगा

मेधावी छात्राओं को गार्गी पुरस्कार के लिए ऑनलाइन आवेदन की तिथि 20 फरवरी तक बढ़ा दी गई है, जिसके लिए ओटीपी की जरूरत भी नहीं होगी। वहीं, गार्गी पुरस्कार के लिए आवेदन कर चुकी बालिकाओं को पुरस्कार वितरण बसंत पंचमी 16 फरवरी को जिला व ब्लाक स्तर पर आयोजित कार्यक्रम में दिए जाएंगे।

इसके अलावा इंदिरा प्रियदर्शी पुरस्कार के प्रमाण पत्र भी इसी दिन दिए जाएंगे, जिसमें 10वीं पास को 75 हजार रुपए व 12वीं पास को 1 लाख रुपए व प्रमाण पत्र दिए जाएंगे। नकद राशि पात्र बालिकाओं के खाते में सीधे ट्रांसफर की जाएगी। हर साल बसंत पंचमी को शिक्षा विभाग गार्गी पुरस्कार एवं बालिका प्रोत्साहन पुरस्कार वितरण समारोह आयोजित करता है। इस बार 16 फरवरी बसंत पंचमी को जिला मुख्यालय व प्रत्येक ब्लाक स्तर पर आयोजित करने का निर्णय लिया है।

इसके संबंध में बालिका शिक्षा फाउंडेशन जयपुर ने निर्देश जारी कर दिए हैं। गार्गी पुरस्कार व बालिका प्रोत्साहन पुरस्कारों में 12वीं बाेर्ड पास करने वाली छात्राओं को 5 हजार रुपए व प्रमाण पत्र बालिका प्रोत्साहन पुरस्कार योजना के तहत दिया जाएगा। कक्षा 10वीं व 11वीं पास करने वाली मेधावी छात्राओं को गार्गी पुरस्कार के रूप में तीन-तीन हजार रुपए व प्रमाण पत्र दिया जाएगा।

पुरस्कार की राशि बैंक खातों में स्थानांतरित की जाएगी। जिला शिक्षा अधिकारी मुख्यालय माध्यमिक शिक्षा प्रेेम सिंह ने बताया कि इस बार 16 फरवरी को आयोजित गार्गी पुरस्कार वितरण समारोह के लिए 10वीं पास 2061 बालिकाओं को व 12वीं पास 3057 बालिकाओं को पुरस्कार दिया जाएगा।

लड़कियों की शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए सरकार देती है गार्गी पुरस्कार
सरकार द्वारा लड़कियों की शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए बहुत सी योजनाएं शुरू की जाती हैं। यह उनमें से एक है, इस योजना को विशेषकर लड़कियों की शिक्षा को बढ़ावा देने के उद्देश्य से शुरू किया गया है। गार्गी पुरस्कार योजना के तहत पुरस्कार वितरण समारोह का आयोजन हर साल की बसंत पंचमी को किया जाता है।

राज्य में लोगों का लड़कियों के प्रति भेद-भाव को देखते हुए राज्य सरकार ने इस योजना को शुरू किया था। जब से गार्गी पुरस्कार योजना राज्य में शुरू हुई है। तब से लोग अपनी बेटियों को पढ़ने-लिखने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं। योजना के अंतर्गत 10वीं कक्षा में 75% या उससे अधिक अंक लेने वाली छात्राओं को 3-3 हजार रुपए की पुरस्कार राशि दो किश्तों में दी जाती है।

पुरस्कार राशि का लाभ लेने के लिए 11वीं तथा 12वीं कक्षा में प्रवेश लेना आवश्यक है। यदि कोई छात्रा 10वीं कक्षा के बाद 11वीं में प्रवेश नहीं लेती है तो उसे इस योजना के तहत दूसरी किश्त का लाभ नहीं मिलेगा। इससे लड़कियों के शिक्षा स्तर में वृद्धि हुई है।

ये दस्तावेज जरूरी

  • निवास प्रमाण पत्र
  • आधार कार्ड
  • राशन कार्ड
  • पैन कार्ड
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • बैंक खाता विवरण

कामां में गार्गी पुरस्कार वितरण समारोह 16 को

ब्लॉक स्तरीय गार्गी पुरस्कार वितरण समारोह का आयोजन 16 फरवरी को कस्बे के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय पर प्रात:साढे दस बजे किया जाएगा। नोडल प्रधानाचार्य मुकुट बिहारी शर्मा ने बताया कि 75 प्रतिशत एवं इससे अधिक प्राप्तांक वाली कक्षा 10वीं और 12वीं की मेधावी छात्राओं को प्रथम किश्त के चेक मय प्रमाण पत्र वितरित किए जाएंगे तथा द्वितीय किस्त की चेक राशि छात्राओं के खातों में जमा की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *