शहर में कोरोना का एक साल: महामारी से मुकाबले में हम माॅडल, तब भी-अब भी


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भीलवाड़ा24 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • सबसे बड़ी महामारी से डरे नहीं लड़े, बेहतर प्रबंधन व अनुशासन से देश में हम बने मिसाल
  • जीवटता; 106 वर्षीय गुलाबकंवर टीका लगवाकर बाेलीं-आप भी लगवाजाेजिम्मेदारी; भागवत कथा से पहले परिसर सेनेटाइज, 2 हजार मास्क बांटते हैं

ठीक एक साल पहले। प्रदेश में सबसे पहले 20 मार्च 2020 काे भीलवाड़ा में एकसाथ काेराेना के छह राेगी मिले थे। हम डरे। तत्काल संभल भी गए। क्याेंकि जानते थे, डर के आगे ही जीत है। महामारी काे हराने का हमारा संकल्प देश में माॅडल बन गया।

प्रशासन की गाइडलाइन थी ताे हमारा अनुशासन। चिकित्साकर्मियाें, पुलिस, स्वच्छतादूताें काे हर कदम में पर सहयाेग। सामाजिक संगठनाें की जिम्मेदारी के बूते हमने जल्दी ही महामारी काे काबू कर लिया। यही माॅडल कई महानगराें में अपनाया गया। हम अब भी जागरुक हैं। अनलाॅक हुए। धार्मिक-सामाजिक आयाेजनाें में भागीदारी के साथ अपनी जिम्मेदारियाें के प्रति जागरुक हैं। ऐसी सुखद तस्वीराें से हम राेल माॅडल बने रहेंगे…

एक साल का काेराेना सफर
जिले में काेराेना के एक साल में 12 हजार 634 संक्रमित सामने आए हैं। जिसमें 12 हजार 68 ठीक हाे चुके हैं। शुक्रवार काे जिले में काेराेना के 19 पाॅजिटिव आए हैं। वहीं 6 ठीक भी हुए हैं। जिले में काेराेना उपचार के दाैरान अब तक 181 की माैत भी हाे चुकी है। रिकवरी रेट 95.52 प्रतिशत चल रही है। जबकि काेराेना के पीक के दाैरान रिकवरी रेट 40 प्रतिशत पहुंच गई थी। वहीं इसी साल फरवरी में रिकवरी रेट 97 तक भी पहुंच गई थी।

सावधानी अब भी जरूरी
देश में काेराेना संक्रमित अचानक बढ़ने लगे। मार्च में राेगियाें की संख्या में चिंताजनक बढ़ाेतरी हाेने लगी। दूसरे स्ट्रेन की आशंका भी है। लेकिन सबसे बड़ी उम्मीद है वैक्सीन। भीलवाड़ा में वैक्सीन लगवाने का जज्बा है। हर चरण में पात्र लाभार्थी अपनी जिम्मेदारी निभा रहे हैं। खुशी है कि वैक्सीन लगवाने वाले सभी 1 लाख 17 हजार 157 लाेग स्वस्थ हैं। बुजुर्गाें में वैक्सीन लगवाने का उत्साह है। समाज सामूहिक समाराेहाें में ऐसे बुजुर्गाें काे सम्मानित कर रहे। हमें चाहिए कि तय चरण व तय दिन स्वास्थ्य केंद्र जाकर टीका लगवाएं। जिम्मेदारी यहीं खत्म नहीं हाे जाएगी। जब भी बाहर निकलें मास्क जरूर लगाएं। सामाजिक दूरी और सेनेटाइजेशन का ख्याल रखें।

अब भी मॉडल क्योंकि अस्पताल में आने वाले मौसमी बीमारी के भी हर मरीज की कोरोना जांच कर रहे हैं

  • अभी भी काेराेना पाॅजिटिव आते ही कंटेटमेंट जाेन लगाया जाता है।
  • संक्रमित की कांटेक्ट ट्रेसिंग की जाती है, जिससे संपर्क में आने से पाॅजिटिव हुआ हाे ताे उपचार किया जा सके।
  • सर्दी,जुकाम, बुखार के हर मरीज का कोरोना टेस्ट हो रहा है।
  • लाेग मास्क लगाने के साथ सेनेटाइजर व साेशल डिस्टेंसिंग रख रहे हैं।
  • आईएलआई (मौसमी बीमारियों के) मरीजाें काे अस्पताल में अलग ओपीडी बनाकर देखते हैं। जरूरत पर क्वारेंटाइन भी कर रहे हैं।
  • काेराेना के आने के बाद लाेग याेग व व्यायामकर इंम्यूनिटी बढ़ा रहे हैं।

उपलब्धि
नीति आयाेग ने माना कोरोना की व्यवस्थाओं में हम श्रेष्ठ, एमजी अस्पताल को सिल्वर केटेगरीकाेराेना से बीते एक साल में लड़कर जीतने में माॅडल बने भीलवाड़ा ने चिकित्सकीय सेवाओं में भी बड़े और बेहतर बदलाव किए जिसकी भारत सरकार के नीति आयाेग ने भी सराहना करते हुए भीलवाड़ा काे फिर माॅडल बताया और सिल्वर केटेगेरी में शामिल किया है। हमारा अस्पताल प्रदेश का पहला अस्पताल है जहां सर्दी, खांसी व जुकाम के हर मरीज की काेराेना जांच व सीबीसी जांच भी की जा रही है। जाे प्रदेश में कहीं और नहीं हाे रही है। वहीं प्रदेश में जयपुर के बाद भीलवाड़ा में ही 20 मार्च, 2020 से ही काेराेना के सैंपल लेने की शुरुआत हाे गई थी। यहां चार मशीनाें से हर दिन 1200 सैंपल की जांच करने की क्षमता है।

राहत
महिला मरीज 25% ही…एमजी अस्पताल में भर्ती हुए मरीजाें में से 25% महिलाएं व 75% पुरुष थे। पीएमओ डाॅ. अरुण गाैड़ ने बताया कि अस्पताल में अब तक 2964 मरीज भर्ती हुए इनमें से 2809 स्वस्थ हाेकर घर लाैटे। इनमें भी 568 गंभीर थे। यहां अगस्त में काेराेना के सबसे अधिक 958 और सबसे कम फरवरी 2021 में 19 मरीज भर्ती हुए हैं।

आनणा के देवनारायण परिसर में विष्णु महायज्ञ, भागवत कथा व शाम काे रामलीला हाेती है। शुक्रवार काे पांचवे दिन सुबह हवन शुरू हाेने से पहले पूरा परिसर सेनेटाइज किया। इसके लिए 3 ट्रैक्टराें में रखे ड्रमाें में साेडियम हाईपाेक्लाेराेइड का घाेल बनाया। इनका फव्वारा पंप से छिड़काव किया गया। कथा पांडाल में प्रत्येक श्राेता के लिए मास्क पहनकर व हाथ सेनेटाइज करना जरूरी है। श्री विष्णु महायज्ञ सेवा समिति की ओर से दाे हजार से ज्यादा मास्क वितरित किए गए।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *