विधायकों का रिपोर्ट कार्ड: बीजेपी के 5 विधायकों के क्षेत्रों में 72 करोड़ के काम; उससे ज्यादा विकास की ‘गंगा’ सिर्फ बगरू में, 88 करोड़ के साथ कटारिया नं. 1


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जयपुर2 मिनट पहलेलेखक: महेश शर्मा

  • कॉपी लिंक
  • जयपुर के विकास वाले सबसे बड़े प्राधिकरण की ओर से दो साल के कामकाज का रिपोर्ट कार्ड
  • बीजेपी विधायक बोले-उनके क्षेत्रों में जो काम मंजूर हो रहे वो भी कांग्रेस प्रत्याशी की पहल पर, मुद्दा विधानसभा में उठाएंगे

‘जयपुर’ में बीजेपी विधायकों के पांच क्षेत्रों में उतने ‘विकास’ के काम नहीं हुए, जितने ‘प्राधिकरण’ ने अकेले कांग्रेस के बगरू क्षेत्र में ‘गंगा’ बहा दी। बीजेपी के 5 क्षेत्रों में जेडीए ने 72 करोड़ के काम पास किए वहीं मुख्य शहर से परे बगरू सीट पर 78 करोड़ के काम मंजूर किए गए जबकि यह तो जेडीए रीजन की 16 विधासनभा में दूसरी रैंकिंग है।

नंबर एक पर कैबिनेट मंत्री लालचंद कटारिया का झोटवाड़ा क्षेत्र है। यहां जेडीए ने 88 करोड़ का काम पास किया है। दो साल के विकास कार्यों का यह रिपोर्ट कार्ड जेडीए ने तैयार कराया है। बीजेपी विधायकों ने इसे लेकर विधानसभा सत्र के लिए सवाल तैयार कर लिए हैं। आरोप भेदभाव और कमजोर विकास कार्यों के हैं।

राजनीति इसलिए, जेडीए में हर 20 लाख से ज्यादा के काम मंत्री की मंजूरी से
बीजेपी विधायकों का दावा है कि उनके एरिया में कामकाज को प्राथमिकता नहीं मिल रही। इसके लिए दबाव की राजनीति, विरोध प्रदर्शन करने पड़ते हैं। दूसरी ओर, यूडीएच मंत्री ने हर 20 लाख के काम की फाइल और एक्सईएन से ईओ तक की पोस्टिंग खुद के स्तर पर पास कराने के आदेश कर रखे हैं। आरोप है कि जेडीए में काम मंजूर हो भी जाते हैं तो टेंडर होकर काम शुरू नहीं हो पाते।

2 करोड़ की एक रोड के लिए भी प्रदर्शन करना पड़ा, विधानसभा में मामला उठाऊंगा : लाहोटी
^ हमारे कहने से तो जेडीए कोई काम नहीं कर रहा। माल की ढाणी के 2 करोड़ की रोड के लिए जेडीए में प्रदर्शन करना पड़ा तो पास हुआ। काम अप्रूव्ड कर देते हैं, लेकिन फिर टेंडर नहीं करते। कांग्रेस के जो विधायक चेहरे रहे हैं, उनकी सुन रहे हैं।

-अशोक लाहोटी, विधायक, सांगानेर

^ सरकार का भेदभाव पूर्ण रवैया तो है ही। हर काम के लिए पीछे पड़ना पड़ता है। कई बार जेडीए होकर आया हूं, तब कुछ काम पास हो पाए हैं।

-कालीचरण सराफ, विधायक, मालवीय नगर

^ काम हमारे कहने से हो ही कहां रहे हैं। जनता के छोटे से काम के लिए भी परेशान होना पड़ रहा है। क्योंकि मंत्री स्तर पर काम पास होते हैं।
-रामलाल शर्मा, विधायक, चौमूं

​​​​​​​^ वर्किंग बहुत स्लो है। डवलपमेंट एक्टीविटी जीरो हो गई। कर क्या कर रहे हैं.. जयपुर की स्थिति देख लो। बजट क्राइसिस है तो ओवरलोड सिस्टम को हल्का करो। बीआरटीएस एक्सईएन अलग है। 10 साल में पेचवर्क ही किए, बाकि कोई काम नहीं। मैंने विधानसभा में सवाल भी लगाए हैं।

-नरपत सिंह राजवी, विधायक, विद्याधर नगर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *