लापरवाही पर चेतावनी: गहलोत ने पांच दिन में छठी बार चेतावनी दी-सतर्कता नहीं बरती तो सरकार को सख्त फैसले लेने ही पड़ेंगे


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जयपुर2 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत। फाइल फोटो

  • गहलोत ने लिखा, एक और लाॅकडाउन अर्थव्यवस्था के लिए घातक होगा
  • हमारे पास वैक्सीन उत्पादन की क्षमता है तो उसका इस्तेमाल करे केंद्र सरकार

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच लोगों की लापरवाही कम नहीं हो रही है। हेल्थ प्रोटोकॉल का पालन करने में लगातार बरती जा रही लापरवाही पर सीएम अशोक गहलोत ने पांच दिन में छठी बार सख्ती की चेतावनी दी है। कल प्रदेश भर में 602 कोरोना पॅजिटिव सामने आने के बाद गहलोत ने फिर ट्वीट कर लोगों से हेल्थ प्रोटोकॉल की पालना करने और ऐसा नहीं करने पर सख्ती की चेतावनी दी है।

गहलोत ने लिखा,कोरोना से जीती हुई जंग कहीं हम हार ना जाएं’
गहलोत ने सोशल मीडिया पर लिखा—11 मार्च को प्रदेश में कोरोना संक्रमण के 203 मामले आए थे। 22 मार्च को यह संख्या 602 पहुंच गई है। 11 दिन में ही कोरोना के नए मामलों की संख्या करीब 3 गुना बढ़ गई है। अगर अभी भी लापरवाही बरती गई तो स्थिति बिगड़ सकती है इसलिए मास्क लगाएं, हाथ धोएं एवं सोशल डिस्टैंसिंग बनाए रखें। यदि आमजन ने पहले की तरह सतर्कता नहीं बरती तो सरकार को सख्त फैसले लेने ही पड़ेंगे। प्रदेश सरकार कठोर फैसलों की बजाय आमजन के सहयोग से कोरोना को निंयत्रित करना चाहती है। आप सभी से अपील है कि कोविड प्रोटोकॉल की पूरी तरह पालना कर सरकार एवं प्रदेशवासियों का सहयोग करें।

गहलोत की केंद्र से मांग-वैक्सीनेशन में एज ग्रुप की लिमिट हटाकर सभी को टीका लगाना चाहिए

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने केंद्र सरकार से पर्याप्त मात्रा में वैक्सीन भेजने की की मांग करते हुए वैक्सीनेशन में एज ग्रुप की लिमिट हटाकर सभी को टीका लगाने का सुझाव दिया है। गहलोत ने सोशल मीडिया पर लिखा — देश में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। विशेषज्ञों की राय है कि भारत सरकार को ज्यादा से ज्यादा टीकाकरण पर फोकस करना चाहिए। अधिक से अधिक वैक्सीनेशन से ही जनता कोरोना से सुरक्षित हो सकेगी। वैक्सीनेशन में एज ग्रुप की लिमिट हटाकर सभी को टीका लगाना चाहिए। बेंगलुरु के डॉक्टर देवी शेट्टी की यह राय उचित लगती है कि 24 से 45 वर्ष आयुवर्ग के लोगों का भी जल्द टीकाकरण करना चाहिए क्योंकि ये लोग अपने काम से घरों से बाहर रहते हैं और सुपर स्प्रेडर बन सकते हैं। भारत के पास बड़ी संख्या में वैक्सीन उत्पादन की क्षमता भी उपलब्ध है जिसका इस्तेमाल होना चाहिए।

एक और लॉकडाउन आजीविका के लिए घातक

गहलोत ने लिखा- मैं भारत सरकार से अपील करता हूं कि राज्यों को अधिक से अधिक संख्या में वैक्सीन उपलब्ध करवाएं जिससे कोरोना संक्रमण की इस दूसरी लहर पर काबू पाया जा सके। कोरोना के मामले बढ़ने पर एक और लॉकडाउन आजीविका के लिए घातक साबित होगा।

लॉकडाउन घातक होगा

गहलोत ने कहा है कि अगर समय रहते कोराेना की दूसरी लहर पर काबू नहीं पाया गया तो लॉकडाउन लगाना पड़ेगा, जो आम आदमी की आजीविका के लिए बहुत ज्यादा घातक हो सकता है। वर्तमान में राज्य में रात में ही पाबंदी लगाई गई है।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *