राजस्थान हाईकोर्ट: शिक्षक लेवल प्रथम का द्वितीय में नहीं किया जा सकता है तबादला, राज्य सरकार का आदेश निरस्त


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जोधपुर6 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • जोधपुर की एक शिक्षिका ने अपने तबादला आदेश को दी थी चुनौती

प्रदेश में एक तृतीय श्रेणी शिक्षिका के लेवल-1 से लेवल-2 में करने के आदेश को राजस्थान हाईकोर्ट ने निरस्त कर दिया है। हाईकोर्ट ने कहा कि ऐसे स्थानानंतर आदेश मस्तिष्क का उपयोग किए बगैर जारी कर दिया गया। हालांकि कोर्ट ने स्पष्ट किया कि यदि सरकार चाहे तो शिक्षिका का तबादला कर सकती है, लेकिन लेवल-1 में ही।

याचिकाकर्ता की ओर् से अधिवक्ता यशपाल ख़िलेरी ने रिट याचिका पेश कर बताया कि संस्कृत विभाग निदेशालय, जयपुर ने 17 फरवरी 2004 को जारी नियुक्ति आदेश से याचिकाकर्ता कमला नेहरू नगर जोधपुर निवासी संतोष कुमारी वैष्णव को तृतीय श्रेणी सामान्य शिक्षक पद पर नियुक्त किया था। तब से वह अपनी संतोषजनक सेवाएं दे रही है। हाल ही में विस्तृत दिशा निर्देश जारी कर यह निर्देशित किया कि अध्यापकों का लेवल निर्धारण उसके प्रारम्भिक नियुक्ति अनुसार ही रहेगा। जिसके अनुसार भी निदेशालय ने याची को लेवल-1 की अध्यापक माना। बावजूद इसके, उसका स्थानांतरण लेवल-2 मानते हुए कर दिया जो गलत है। याची को एक अन्य अध्यापक को एडजस्ट करने के लिए स्थानांतरित किया है। वहीं सरकारी की तरफ से अतिरिक्त महाधिवक्ता अनिल कुमार गौड़ ने तर्क दिया कि राज्य सरकार चाहे तो शिक्षिका का तबादला किया जा सकता है। न्यायाधीश दिनेश मेहता ने दोनों पक्ष सुनने के पश्चात संतोष कुमारी के तबादला आदेश को निरस्त कर दिया। हालांकि उन्होंने अपने आदेश में साफ लिखा है कि यदि सरकार चाहे तो इस शिक्षिका का तबादला कर सकती है, लेकिन उसी लेवल-1 संवर्ग में।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *