मेरा क्या कसूर: जन्मते ही नवजात को 7 फीट ऊंचाई से बाथरूम में फेंका, जान बची


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मावली3 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • नवजात को फेंकने वालों का पता नहीं चला

फतहनगर थाना क्षेत्र के फलीचड़ा गांव के सरकारी स्कूल के बाथरूम में शनिवार शाम काे कोई नवजात लड़के को फेंक गया। बाथरूम के ऊपर छत नहीं थी। नवजात के पेट से नाल जुड़ी हुई थी। ऐसे में माना जा रहा है कि जन्म के बाद ही इसे कोई यहां डाल गया। करीब सात फीट ऊंची दीवार से नीचे डालने के कारण नवजात के सिर पर चोटें आई है।

घटना शाम करीब चार बजे की है। बाथरूम का गेट बाहर से बंद था। स्कूल में छुट्‌टी हो चुकी थी। स्कूल से कुछ दूर खेलते वक्त 11वीं कक्षा के छात्र यशपाल ने बच्चे की राेने की आवाज सुनी तो उसने गांव में ही रहने वाले शिक्षक नीरज फाैजदार और लिपिक महेश लूनिया काे बताया। इस पर शिक्षक माैके पर पहुंचे। सरपंच पति छाेगालाल जाट काे सूचना दी। इस पर उन्होंने पुलिस को बताया। पुलिस के आने से पहले शिक्षक तथा गांव के लोग नवजात को मावली सीएचसी लाए। जहां प्राथमिक उपचार कर उदयपुर रेफर कर दिया। वह स्वस्थ बताया जा रहा है।

फतहनगर थाने के एएसआई भंवर सिंह ने बताया कि शाम करीब 4.30 बजे सूचना मिली कि फलीचड़ा स्कूल के बाथरूम में एक नवजात पड़ा है। इस पर पुलिस माैके पर पहुंची और छानबीन शुरू की। इससे पहले माैके पर माैजूद लाेग मासूम को मावली अस्पताल ले गए। जहां शिशु रोग विशेषज्ञ डाॅ. एलसी चारण ने प्राथमिक उपचार के बाद बच्चे काे 108 एंबुलेंस से उदयपुर रेफर कर दिया। इस दौरान जवान गाेविंद, कैलाश जाट आदि ने मौका-मुआयना कर आसपास के लोगों से नवजात के बारे में पूछताछ की, लेकिन इसे छोड़ने वाले का पता नहीं चल पाया। आस-पास के क्षेत्र में डिलेवरी केस के बारे में पुलिस पता लगा रही है। गांव के लाेगाें और पुलिस का मानना है कि किसी अज्ञात युवक या युवती ने मासूम काे दाेनाें पांव पकड़ कर बाथरूम में डाला हाेगा।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *