मेयर मुनेश का तुगलकी फरमान: सदन में एजेण्डा पर खिलाफ बोलने वालों को बाहर का रास्ता दिखाने की चेतावनी, 2 घंटे बिना विपक्ष के सदन चलाकर 19 प्रस्ताव किए पास


  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Warning Of Those Speaking Out Against The Agenda In The House, They Passed 19 Hours Without Opposition, Passed 19 Resolutions

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जयपुर5 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

जयपुर नगर निगम मुख्यालय में आयोजित साधारण सभा में विपक्ष के वॉकआउट के बाद खाली पड़ी विपक्ष लॉबी।

नगर निगम हेरिटेज की बजट बैठक में आज मेयर मुनेश गुर्जर का तुगलकी फरमान सुनने को मिला। लंच से पहले मेयर ने जिन भाजपा पार्षदों को बजट पर चर्चा करवाने का आश्वासन देकर लंच के लिए राजी किया, उसी के एक घंटे बाद मेयर यू टर्न लेकर तुगलकी फरमान सदन में सुना दिया। उन्होने सभी पार्षदों को स्पष्ट कह दिया कि जो भी एजेण्डा के खिलाफ बोलेगा उसे सदन से बाहर कर दिया जाएगा। मेयर के इस फरमान से खफा भाजपा पार्षदों ने हंगामा किया, सदन में धरने पर बैठे और बाद में वॉकआउट कर गए। लगभग 2 घंटे तक सदन बिना विपक्ष के चला और 19 प्रस्तावों को पास किया।

यूं चला पूरा घटनाक्रम

लंच बाद जैसे ही सदन की कार्यवाही शुरू हुई, भाजपा पार्षद मनीष पारीक बजट पर चर्चा के लिए बोलने लगे। उन्होने मेयर को अपने वादे की याद दिलाई, जिसमें उन्होने लंच बाद बजट पर चर्चा का आश्वासन दिया था। लेकिन मेयर ने यू टर्न लेते हुए साफ कर दिया कि अब आप वो समय खो चुके है बजट प्रस्ताव पास हो चुका है, अगले प्रस्ताव पर बोले। मेयर के इस निर्णय से भाजपा पार्षद नाराज हुए और वैल में आ गए। हंगामा बढ़ता देख मेयर ने पार्षद पारीक को सदन से बाहर कर दिया और कहा कि अब जो भी किसी भी एजेण्डा पर विरोध में बोलेगा उसे सदन से बाहर कर दिया जाएगा। मेयर के इस वाक्य से भाजपा पार्षद आगबबूला हो गए और हंगामा करते हुए सदन में ही धरने पर बैठ गए।

वॉकआउट कर सदन की कार्यवाही का किया बहिष्कार

धरने पर कुछ देर बैठने के बाद जब मेयर ने भाजपा पार्षदों की एक नहीं सुनी तो वे सदन की कार्यवाही का बहिष्कार करके सदन से वॉकआउट कर गए। इसके बाद विपक्ष लॉबी पूरी खाली हो गई और मेयर ने पक्षा लॉबी में बैठे पार्षदों संग चर्चा करते हुए करीब 2 घंटे तक सदन चलाया और 19 प्रस्तावों को मंजूरी दिलवाई।

ये है हेरिटज सरकार का बजट

यूं आएगा पैसा

  • चूंगीकर पेटे: 210 करोड़
  • हाउस व यूडीटैक्स से: 74 करोड़
  • मोबाइल टॉवर, मैरिज गार्डन रजिस्ट्रेशन, विज्ञापन बोर्ड, स्लॉटर हाउस, पशु मेला सहित अन्य: 75.28 करोड़
  • पार्किंग, सीवर कनेक्शन, सम्पत्तियों के किराये सहित अन्य मद: 18.52 करोड़
  • पेनल्टी, चालान के जरिए: 4 करोड़ रुपए
  • निवेश से प्राप्त ब्याज, लीज राशि, सीवर मेंटेनेंस और जेडीए से ट्रांसफर कॉलोनियों से: 26.50 करोड़
  • जमीन बेचान: 75 करोड़
  • केन्द्र, राज्य और वित्त आयोग से अनुदान व विभिन्न योजनाओं के पेटे: 257.12 करोड़
  • प्रोजेक्ट और विकास कार्यो के लोन: 44.16 करोड़

यूं खर्च होगा पैसा

  • विकास कार्यो, केन्द्र व राज्य की योजनाओं सहित अन्य कार्यो: 347 करोड़
  • वेतन-भत्तों: 228 करोड़
  • डोर टू डोर कचरा संग्रहण: 60 करोड़
  • गाड़ियों के पेट्रोल-डीजल और रखरखाव: 13.10 करोड़
  • बिजली के बिल, नई स्ट्रीट लाइट खरीद व अन्य: 20 करोड़
  • गाैशाला में चारा-दवाई व अन्य: 16 करोड़
  • उद्यान, पेड़-पौधे रखरखाव: 10 करोड़
  • नई गाड़ियां व अन्य सामाग्री, उपकरण खरीद: 40 करोड़
  • इंदिरा रसोई, तीज त्यौहारों और बकाया अमानता राशि के भुगतान: 8 करोड़
  • लोन किश्त व ब्याज: 2.50 करोड़
  • बाढ़ नियंत्रण, चिकित्सा भत्ता सहित अन्य कार्यो पर: लगभग 36 करोड़

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *