बड़ा सवाल: एयरफोर्स स्टेशन में 12 गाड़ियों के नंबर बदलकर अनुबंध पर लगाई, अधिकारियों को पता ही नहीं चला, 2 कारें जब्त की


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बाड़मेरएक मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • बिना जांच परिंदा भी नहीं घुस सकता, फर्जी नंबर प्लेट लगी गाड़ियां कैसे गई

एयरफोर्स स्टेशन उत्तरलाई में सुरक्षा में चूक का मामला सामने आया है। यहां कुछ दिन पहले एक ठेकेदार के जरिए करीब 30 गाड़ियों को अनुबंध पर लगाया। इसके लिए ठेकेदार ने ही गाड़ियां उपलब्ध करवाई थी, इसमें से कुछ गाड़ियों की नंबर प्लेट ही बदल दी। ऐसी करीब बारह गाड़ियों की जानकारी सामने आई है। ठेकेदार ने पर्सनल पासिंग गाड़ियों की नंबर प्लेट बदलकर उसे टैक्सी पासिंग बताकर एयरफोर्स स्टेशन उत्तरलाई में अनुबंध पर लगा दी। बुधवार को जब इस संबंध में शिकायत जिला परिवहन अधिकारी के पास पहुंची तो परिवहन निरीक्षक मेघराज ने उत्तरलाई पहुंचकर कार्रवाई शुरू की। जैसे ही एक कैम्पस से गाड़ी निकलकर दूसरे कैम्पस में जाने लगी तो आरटीओ ने गाड़ी रुकवाकर कागजात व नंबर प्लेट की जांच की। इसमें दो गाड़ियाें की नंबर प्लेट फर्जी पाई गई।

इन गाड़ियों पर प्लास्टिक के रेपर पर नंबर लिखाकर नंबर प्लेट पर चिपकाए गए थे। इनका कोई रेकर्ड भी नहीं है। ऐसे में उन्होंने दोनों गाड़ियों को सीज कर दिया। जब इस कार्रवाई की भनक एयरफोर्स के अधिकारियों को लगी तो उन्होंने दूसरी फर्जी नंबर प्लेट लगी गाड़ियां कैम्पस के अंदर ही खड़ी कर दी गई। इस संबंध में एयरफोर्स स्टेशन के अधिकारियों से उनका पक्ष जानने के लिए प्रयास किए, लेकिन किसी ने भी जवाब नहीं दिया।

गाड़ियों के नंबरों में की हेराफेरी, कई नंबर ऐसे कि उनका आरटीओ में रजिस्ट्रेशन ही नहीं

ठेकेदार ने वायुसेना के अधिकारियों को अंधेरे में रखकर धोखे से गाड़ियां लगाई है या मिली भगत से। यह जांच का विषय बन गया है। वायुसेना स्टेशन में लगी गाड़ियों में कुछ गाड़ियों के नंबरों में हेराफेरी की गई। इनका नंबर में से सीए या सीबी हटाकर पीले रेपर पर टीए लिखकर चिपकाया गया। इनमें आरजे 04 टीए 0025, आरजे 04 टीए 9595, आरजे46 टीए 0987, जीजे 27 टीए 2707, आरजे14 टीए 9017, जीजे24 टीए 3114, आरजे04 टीए 5853, आरजे 15 टीए 738, जीजे01 टीए 5205, आरजे04 टीए 5272 आदि गाड़ियों की जानकारी सामने आई है, जिनके नंबर बदलकर लगाई हुई है।

परिवहन विभाग ने शिकायत के आधार पर गाड़ियों की जांच की गई तो दो गाड़ियां स्टेशन कैम्पस में जाते हुए रुकवाई। इसमें दोनों गाड़ियों पर फर्जी नंबर पाए जाने पर उन्हें जब्त किया गया। जांच के दौरान आरजे 04 सीए 6707 गाड़ी के नंबर बदलकर आरजे 04 टीए 6707 किया गया था। इसी तरह दूसरी गाड़ी आरजे 04 सीबी 0025 के नंबर बदलकर आरजे 04 टीए 0025 कर दिया। जांच में फर्जीवाड़ा पाए जाने पर कानूनी कार्रवाई के लिए दोनों गाड़ियों को जब्त कर परिवहन विभाग कार्यालय लाया गया।

ठेकेदार ने बदली नंबर प्लेट

  • मुझे किसी ने बताया कि वायुसेना स्टेशन में गाड़ियों की जरूरत है। इसलिए मैने ठेकेदार से संपर्क किया तो उसने पंद्रह सौ रुपए प्रति दिन के हिसाब से गाड़ी को लगाया। मेरी गाड़ी पर्सनल नंबर पासिंग है। ठेकेदार ने कहा पीले कलर का प्लास्टिक का रेपर गाड़ी पर लगाया, जिस पर मेरी गाड़ी के नंबर लिखे हुए थे जिसमें सीबी की जगह टीए किया हुआ था। ठेकेदार ने कहा कि इससे कुछ नहीं होगा, यह सब मेरी जिम्मेदारी है। आज हमारी गाड़ी आरटीओ ले आए। ऐसी काफी गाड़ियां अंदर लगी हुई है। – पीरू, जब्त गाड़ी का ड्राइवर

अंदर जाना मना है, बाहर से दो वाहन जब्त किए: निरीक्षक

  • हमें सूचना मिली कि निजी पासिंग गाड़ियां टैक्सी परमिट पर चल रही है। मौके पर पहुंचने पर दो गाड़ियां मिली। जांच के दौरान दोनों गाड़ियों पर नंबर फर्जी पाए गए। दोनों को जब्त कर कार्यालय में लाए है और मोटर वाहन अधिनियम के तहत कार्रवाई की जाएगी। अंदर और गाड़ियां है या नहीं है। इसकी मुझे जानकारी नहीं है। इस संबंध में एयरफोर्स के अधिकारियों को सूचित कर दिया है। कैम्पस के अंदर की कार्रवाई उनके द्वारा की जाएगी। – मेघराज, परिवहन निरीक्षक,बाड़मेर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *