ब्रिटिश डिप्टी हाईकमिश्नर की सीएम से मुलाकात: यूके के मशहूर विश्वविद्यालयों के राजस्थान में स्टडी सेंटर खोलने का प्रस्ताव


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जयपुर28 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

यूके के डिप्टी हाईकमिश्नर पीटर कुक ने सीएम अशोक गहलोत से मुलाकात कर द्विपक्षीय सहयोग के मुद्दों पर चर्चा की

  • राजस्थान में यूके की तर्ज पर बुजुर्गों के लिए केयर सेंटर खोलने का सुझाव

यूके के डिप्टी हाई कमिश्नर पीटर कुक ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मुलाकात कर कई क्षेत्रों में सहयोग पर चर्चा की। यूके के यूके के डिप्टी हाई कमिश्नर राजस्थान में उच्च शिक्षा के क्षेत्र में भागीदारी का प्रस्ताव रखा। उन्होंने कहा कि राजस्थान में ब्रिटिश विश्वविद्यालयों के विशेष अध्ययन केन्द्र स्थापित किए जा सकते हैं। इससे यहां के युवाओं को अन्तर्राष्ट्रीय तकनीक और नॉलेज शेयरिंग का लाभ मिलेगा और ब्रिटिश युवाओं को यहां की संस्कृति से रूबरू होने का मौका मिलेगा।

     कुक ने कहा कि हैल्थ केयर क्षेत्र में राजस्थान विगत वर्षों में तेजी से उभरा है। यहां नर्सिंग और पैरामेडिकल के क्षेत्र में कुशल मानवीय संसाधन उपलब्ध हैं। यहां के युवा इस क्षेत्र में ब्रिटेन में मौजूद रोजगार के बेहतर अवसरों का लाभ उठा सकते हैं। उन्होंने वृद्धजनों की देखभाल के लिए ब्रिटेन की तरह राजस्थान में भी सुविधायुक्त केयर होम्स विकसित करने का सुझाव भी दिया।कुक ने मुख्यमंत्री को इस साल नवम्बर माह में ग्लासगो में होने वाले संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन के बारे में जानकारी दी और कहा कि क्लाइमेट चेंज जैसे ज्वलन्त मुददे पर राजस्थान और यूके सहयोग कर सकते हैं। ब्रिटिश डिप्टी हाई कमिश्नर ने राजस्थान में ब्रिटिश निवेश बढ़ाने के लिए लगातार प्रयास करने का भरोसा दिलाया।     मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने प्रदेश में निवेश को प्रोत्साहन देने के लिए एमएसएमई एक्ट, राजस्थान औद्योगिक विकास नीति, राजस्थान निवेश प्रोत्साहन योजना, वन स्टॉप शॉप, राजस्थान निर्यात संवर्द्धन परिषद, मुख्यमंत्री लघु उद्योग प्रोत्साहन योजना सहित कई नीतिगत फैसले किए हैं। राजस्थान सौर ऊर्जा का हब बनता जा रहा है। ऐसे में विदेशी निवेश की दृष्टि से सर्वाधिक पसंदीदा राज्य के रूप में उभर रहा है। ब्रिटेन की नामी कम्पनियां प्रदेश में पहले से काम कर रही है और उनका अनुभव काफी सुखद रहा है। राजस्थान को ब्रिटिश कम्पनियों की इन क्षेत्रों में विशेषज्ञता का लाभ मिल सकता है। यूके की राजस्थान के साथ व्यापारिक भागीदारी बढ़ने से हमारे द्विपक्षीय संबंध और मजबूत होंगे।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *