बलवान बेटियां: अकेला जिला जहां लड़कों के साथ अभ्यास, 50 मेडल जीते बेटियों ने


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भीलवाड़ा3 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

यह तस्वीर हरियाणा के अखाड़े की नहीं बल्कि भीलवाड़ा की बलवान बेटियों की है। यह प्रदेश का अकेला कुश्ती का अखाड़ा है जहां बेटियां लड़कों के साथ अभ्यास करती हैं। नतीजा यह है कि पांच में साल में अलग-अलग प्रतियोगिताओं में 50 से ज्यादा मेडल महिला पहवान जीत चुकी है। शिव व्यायामशाला पुर के कल्याण विश्नाेई बताते हैं भीलवाड़ा में कुश्ती का इतिहास 100 साल पुराना है। यहां करीब 500 महिला पहलवान हैं, जिसमें 50 से अधिक मेडलिस्ट है। श्रीकृष्ण व्यायामशाला के तेजेंद्र गुर्जर के अनुसार पांच साल में महिला कुश्ती के प्रति का क्रेज बढ़ा है। पहले बेटियों को कुश्ती में भेजना पंसद नहीं करते थे।

ताकत : शहर में महिला पहलवानी के लिए तीन अखाड़े हैं। करीब 50 से अधिक महिला पहलवान प्रतिदिन सुबह-शाम कुश्ती के दांव पेच सीखती हैं। शिव व्यायामशाला पुर, श्रीकृष्णा व्यायामशाला व केसरीनंदन व्यायामशाला में महिलाओं की कुश्ती होती है। महिला पहलवान पुरुष पहलवानों से भी दो-दो हाथ करती हैं।

खासियत : कुश्ती प्रशिक्षक जगदीश जाट बताते हैं भीलवाड़ा की 50 महिला पहलवान राष्ट्रीय स्तर पर पदक जीत चुकी है। यहां पर राजस्थान-एमपी कुमारी का खिताब भी अपने नाम कर चुकी हैं।

तस्वीर गोल्डन गर्ल की : 17 साल की मनीषा कई मेडल जीत चुकी हैं। ये रोज इसी तरह अभ्यास में लड़कों को पछाड़ती हैं। पांच साल में 6 गोल्ड मैडल जीत चुकी हैं।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *