फिर पढ़ाएगा कौन?: कोरोना काल में वैसे ही पढ़ाई नहीं हुई, अब स्कूल लेक्चरर कॉलेज में प्रैक्टिकल लेने में हो गए व्यस्त


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बीकानेर5 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

प्रारम्भिक शिक्षा निदेशालय के अधीन संचालित शिक्षा विभागीय पंजीयक कार्यालय की ओर से यह परीक्षा आयोजित होती है।

राजस्थान में कोरोना काल के चलते सरकारी व गैर सरकारी स्कूलों में पढ़ाई पूरी तरह प्रभावित हुई। करीब तीन सौ दिन बाद स्कूल एक बार फिर शुरू हो गए लेकिन सरकारी स्कूलों का तरीका फिर भी नहीं बदला। यहां पढ़ाने वाले स्कूल लेक्चरर एक बार फिर गायब है। अब इन्हें राज्य के DElEd कॉलेज में प्रेक्टिकल लेने भेजा जा रहा है। ऐसे में सैकड़ों स्कूलों से एक बार फिर लेक्चरर गायब होने वाले हैं।

शिक्षा विभागीय पंजीयक कार्यालय ने राज्य के करीब दो हजार DElEd कॉलेज में 26 फरवरी से छह मार्च तक प्रेक्टिकल परीक्षा की घोषणा की है। इन कॉलेजों में इस बार स्कूल लेक्चरर, हेडमास्टर स्तर के अधिकारियों की ड्यूटी लगाई गई है। एक जिले से दूसरे जिले में ड्यूटी पर जा रहे लेक्चरर करीब चार दिन तक स्कूल से गायब रहेंगे। वहीं गृह जिले से दूर रहे रहे शिक्षक इसी के आसपास अपनी छुट्‌टी एडजस्ट करके छह दिन तक भी गायब हो रहे हैं। ऐसे में जब पहले से पाठ्यक्रम अधूरा चल रहा है, पढ़ाई पूरी तरह चौपट है, इन लेक्चरर की ड्यूटी लगाना हास्यास्पद है।

आमतौर पर सरकारी व निजी DElEd कॉलेज के लेक्चरर ही ड्यूटी पर जाते हैं। ऐसे में स्कूल की पढ़ाई बाधित नहीं होती। इस बार व्यवस्था को बदलकर निजी कॉलेज के लेक्चरर को पूरी तरह से हटा दिया गया है। सिर्फ सरकारी स्कूल व बीएड कॉलेज लेक्चरर को ही लगाया गया है।

निदेशालय से अधिकारी भी ड्यूटी पर

मजे की बात है कि शिक्षा निदेशालय में प्रदेशभर से तैनात कई अधिकारियों को भी इस ड्यूटी में लगाया गया है। ऐसे में निदेशालय के महत्वपूर्ण कार्य प्रभावित हो रहे हैं। वहीं कई अधिकारियों के पास कोई खास काम नहीं है, उनकी गृह जिले में या फिर आसपास ही ड्यूटी लग गई है।

प्राइवेट कॉलेज है नाराज

शिक्षा निदेशालय की ओर से इस बार प्राइवेट लेक्चरर को अलग करने से नाराजगी है। पिछले एक साल से कोरोना के कारण डीएलएड कॉलेज के लेक्चरर घर पर ही बैठे थे। बड़ी संख्या में कॉलेज ने उन्हें वेतन नहीं दिया। ऐसे में प्रेक्टिकल ड्यूटी से कुछ कमाई होने की उम्मीद थी, लेकिन उस पर भी पानी फिर गया। इस संबंध में शिक्षा मंत्री को ज्ञापन भी दिया गया लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई।

क्या है DElEd कॉलेज

राज्यभर में प्रारम्भिक शिक्षा के शिक्षकों के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम संचालित करने वाले कॉलेज है। यह डिप्लोमा इन एलिमेंट्री एज्यूकेशन का दो वर्ष का पाठ्यक्रम करवाते हैं। राज्य में अभी करीब दो हजार DElEd कॉलेज हैं। इनमें सरकारी कॉलेज महज डाइट्स है और शेष सभी निजी स्तर पर संचालित हो रहे हैं।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *