पढ़ने के जज्बे और पीड़ित को दान की दो कहानियां: 71 वर्षीय मोहनलाल कोटा यूनिवर्सिटी की एमए लोक प्रशासन में द्वितीय रहे


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भीलवाड़ा21 दिन पहले

  • कॉपी लिंक

खुशबू जाजू

आज आपको जज्बे और दान की दो कहानियां बताएंगे जो कि आपको उम्र की बंदिश और दान की सीमाओं से परे है। एक कहानी ऐसी सॉफ्टवेयर डेवलपर युवती की है जिसने कैंसर पीड़िता के दर्द को समझकर ऐसा दान किया जिसे सोचना भी किसी महिला के लिए मुश्किल है।

दूसरी कहानी ऐसे बुजुर्ग की है जिसने 71 साल की उम्र में चार संकायों में स्नातकोत्तर कर चुके है जिसमें यूनिवर्सिटी की तरफ से एक बार गोल्ड मेडल और दूसरी बार सिल्वर मेडल जीत चुके है।

शिक्षा; बैंक अधिकारी रहे मोहनलाल अब तक चार विषयों में कर चुके हैं पीजी
बैंक ऑफ बड़ौदा से रिटायर्ड उप महाप्रबंधक मोहनलाल जैन ने 71 साल की उम्र में लोक प्रशासन से स्नातकोत्तर किया। वर्धमान महावीर ओपन यूनिवर्सिटी में द्वितीय स्थान हासिल किया। जैन ने बताया कि नवयुवकों को प्रेरणा देने और स्वर्गीय माता को दिए वचन को पूरे करने के लिए डिग्री प्राप्त कर रहे हैं। जैन एमए राजनीति शास्त्र, इतिहास में गोल्ड मेडल प्राप्त कर चुके है। अभी तक चार संकाय में स्नातकोत्तर कर चुके हैं। यूएसए के शिकागो (कैलोग) से प्रबंधन में सर्टिफिकेट लिया है। बैंकिंग में भी डिप्लोमा प्राप्त किया।

सेवा; खुशबू जाजू ने डेढ़ फीट लंबे बाल कैंसर पीड़िता के लिए दान दे दिए
खुशबू जाजू की उम्र महज 33 है। पेशे से सॉफ्टवेयर डेवलपर हैं। दो महीने पहले फेसबुक पेज पर देखा तो पता चला कि कैंसर पीडितों की कीमोथैरेपी करने से सिर के बाल झड़ जाते है। यह महिलाओं के लिए और अधिक दुखदायक स्थिति होती है क्योंकि बाल उनकी सुंदरता से जुड़ा अहम मामला है। ऐसी स्थिति में बाहर जाने से कतराने लगती है। इस पीड़ा को समझते हुए खुशबू जाजू ने अपने डेढ़ फीट लंबे बाल दान करने का फैसला किया। हेयर फॉर हेल्प संस्था के मार्फत खुशबू का दान गुड़गांव निवासी युवती को प्राप्त हो चुका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *