पूछताछ: 11 जी गुरुद्वारा से ले जाए गए श्रीगुरु ग्रंथ साहिब मामले में तख्त श्री दमदमा साहिब पहुंची चूनावढ़ पुलिस


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

श्रीगंगानगर20 दिन पहले

  • कॉपी लिंक

श्रीगंगानगर। तख्त श्रीदमदमा साहिब गुरुद्वारा में पहुंची चूनावढ़ पुलिस टीम।

  • वारदात काे अंजाम देने से पहले 11, 28 व 30 नवंबर काे गाेलूवाला गुरुद्वारा में हुई थी बैठकें

गुरुद्वारा 11 जी सतकरतार साहिब से ले जाए गए गुरु ग्रंथ साहिब के मामले में चूनावढ़ पुलिस तख्त दमदमा साहिब पहुंच गई है। पुलिस ने तख्त और गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी काे पत्र देकर रिकाॅर्ड मांगा है। इधर, इस वारदात के मुख्य सूत्रधार निर्मलसिंह खरलियां और गाेलूवाला निवासी हरमीतकाैर से रिमांड के दाैरान वारदात काे लेकर पूछताछ की जा रही है।

एसपी राजन दुष्यंत ने बताया कि चूनावढ़ एसएचओ परमेश्वर सुथार टीम के साथ रविवार काे बठिंडा जिला स्थित तख्त दमदमा साहिब भेजे गए हैं। एसएचओ ने गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी काे इस घटना में ले जाए गए गुरुग्रंथ साहिब के संबंध में पूछताछ की है तथा कमेटी से रिकाॅर्ड मांगा है। घटना के बाद आराेपियाें ने ही वीडियाे साेशल मीडिया पर सार्वजनिक कर बताया था कि गुरुद्वारा 11 जी छाेटी सतकरतार साहिब से उठाए गए गुरुग्रंथ साहिब काे तख्त दमदमा साहिब में पहुंचा दिया है। आराेपिया गुरमीतकाैर और लवप्रीतसिंह सहित अन्य आराेपियाें के इसी गुरुद्वारा के सीसी कैमराें के फुटेज भी वायरल हुए थे। रिकाॅर्ड की जांच के बाद यदि सामने आया कि गुरुग्रंथ साहिब यहीं विराजमान हैं, ताे गुरुग्रंथ साहिब काे वापस लाैटाने काे अर्जी दाखिल की जाएगी।

मुकदमे के जांच अधिकारी चूनावढ़ एसएचओ परमेश्वर सुथार ने बताया कि गिरफ्तार की गई हरमीतकाैर अाैर निर्मलसिंह ने इस डकैती की याेजना काे तीन बैठकें कीं। तीनाें बैठकें गाेलूवाला गुरुद्वारा में हुईं। पहली बैठक 11 नवंबर काे हुई। इस बैठक में निर्मलसिंह ने सूरतगढ़ निवासी हिस्ट्रीशीटर आत्माराम काे मदद के लिए बुलाने पर सहमति बनी। अगली मीटिंग 28 नवंबर काे हुई। इसमें आत्माराम काे बुलाया गया। आखिरी बैठक 30 नवंबर काे हुई। इसमें वारदात काे अंजाम देने के रास्ते, तरीके और हर आदमी की डयूटी तय हुई। एक दिसंबर की रात काे वारदात काे अंजाम ही दे दिया गया।

आत्माराम काे हर व्यक्ति के 50 हजार रुपए देकर साैदा किया तय
इस वारदात काे अंजाम देने काे निर्मलसिंह और हरमीतकाैर ने आत्माराम से 50 हजार रुपए प्रति व्यक्ति के साहिब से रेट तय किया था। आत्माराम अपने साथ गैंग के 6 लाेग और लेकर वारदात करवाने आया था। उसकी गैंग का एक आराेपी अभी गिरफ्तार नहीं किया जा सका है। शेष आराेपियाें काे काबू कर लिया गया है।

वारदात के मुख्य आराेपी लवप्रीतसिंह और संदीपसिंह अाज कर सकते हैं अदालत में समर्पण
इधर इसी घटना के सूत्रधार लवप्रीतसिंह और संदीपसिंह साेना साेमवार काे काेर्ट में सरेंडर कर सकते हैं। उल्लेखनीय है कि इन दाेनाें ने शुक्रवार काे भी स्वयं काे अदालत में पेशकर दिया था। लेकिन जांच अधिकारी और केस डायरी के काेर्ट में उपस्थित नहीं हाेने के कारण अदालत ने इनकाे साेमवार काे आने काे कहा था। जांच अधिकारी एसएचओ परमेश्वर सुथार उस दिन गुरुद्वारा आनंदपुर साहिब में हरमीतकाैर और निर्मलसिंह काे गिरफ्तार करने गए हुए थे। इस बात का यहां पता चलने पर एसएचओ काे काेर्ट में बुलाने का दबाव भी बनाया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *