पानी की मांग को लेकर हड़ताल: रेजिडेंट डॉक्टर्स की हड़ताल से लड़खड़ाई व्यवस्थाएं, नलकूप खुदवाई शुरू होने के साथ काम पर लौटे



Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जोधपुर13 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • हॉस्टलों में पानी की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे थे रेजिडेंट डॉक्टर्स

हॉस्टलों में पानी जैसी मूलभूत सुविधाओं की मांग को लेकर डॉ. एसएन मेडिकल कॉलेज के रेजिडेंट्स शुक्रवार सुबह से हड़ताल पर चले गए। रेजिडेंट्स के हड़ताल पर जाने से मेडिकल कॉलेज से सम्बद्ध अस्पतालों की चिकित्सा व्यवस्था लड़खड़ाने लग गई। बाद में प्रिंसिपल ने सभी विभागाध्यक्ष व रेजिडेंट्स के साथ वार्ता कर समस्या समाधान का ठोस आश्वासन दिया। इस कड़ी में हॉस्टल में एक नलकूप की खुदाई भी शुरू करवा दी गई, ताकि पानी का संकट समाप्त हो सके। इसके बाद रेजिडेंट डॉक्टर्स ने हड़ताल वापस लेने की घोषणा कर दी।

मेडिकल कॉलेज में रेजिडेंट्स के हॉस्टल में पेयजल व सीवरेज जैसी समस्या लम्बे अरसे से गहराई हुई है। कई बार आंदोलन के बावजूद इन समस्याओं का समाधान नहीं हो पाया। रेजिडेंट्स ने दो दिन तक दो-दो घंटे कार्य बहिष्कार किया, लेकिन कोई समाधान नहीं निकल पाया। ऐसे में आज सुबह से वे अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए। रेजिडेंट्स ने मेडिकल कॉलेज तक हाथों में पानी की खाली बाल्टियां व कैंपर लेकर नारेबाजी करते हुए पैदल मार्च निकाला।

रेजिडेंट्स की हड़ताल के कारण अस्पतालों में चिकित्सा व्यवस्था लड़खड़ाने पर प्रिंसिपल डॉ. जीएल मीणा ने तुरंत सभी विभागाध्यक्षों की बैठक बुलाई। इस बैठक में रेजिडेंट्स के प्रतिनिधियों को भी बुलाया गया। बैठक में रेजिडेंट्स की पानी की समस्या समाधान के लिए हाथों हाथ नलकूफ की खुदाई का आदेश जारी किया गया. साथ ही अन्य समस्याओं के समाधान पर तुरंत एक्शन लेने का आश्वासन दिया गया। इसके बाद रेजिडेंट्स अपनी हड़ताल वापस लेने पर सहमत हो गए।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *