पटवारियों का महापड़ाव: वेतन बढ़ाने की मांग को लेकर प्रदेशभर के पटवारी जुटे जयपुर, VIP रोड सरदार पटेल को किया बंद, पुलिस को बदलना पड़ा CM का रूट


  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Patwari, Jaipur, VIP Road, Sardar Patel And 22 Godown Circle Closed, Demanding Change In Salary, CM’s Route Had To Be Changed

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जयपुर38 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

सोडाला स्थित अजमेर रोड एलीवेटेड से गुजरता पटवारियों का दल।

  • अजमेर से 135 किलोमीटर पैदल चलकर पहुंचे थे जयपुर, शहर में आने के बाद जगह-जगह लगा जाम
  • 7 घंटे धरने के कारण बंद रहा सरदार पटेल मार्ग से सहकार मार्ग (22 गोदाम सर्किल) जाने वाला रास्ता
  • देर रात करीब 11:00 बजे शहीद स्मारक एमआई रोड पर मिली धरना देने की अनुमति

पूरे प्रदेशभर से एकजुट होकर अजमेर से जयपुर पैदल मार्च करके आए पटवारियों ने आज प्रशासन को सकते में ला दिया। विधानसभा घेराव के लिए जयपुर पहुंचे पटवारियों की रैली ने जयपुर के VIP रूट में से एक सरदार पटेल मार्ग को बंद कर दिया। इस घटना के बाद पुलिस प्रशासन के हाथ-पांव फूल गए, जिसके चलते प्रशासन को विधानसभा से घर लौट रहे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का रूट तक बदलना पड़ गया। उन्हें भवानी सिंह लेन, बाइस गोदाम पुलिया वाले रूट के बजाए भवानी सिंह लेन, सी स्कीम, राजमहल चौराहा, सिविल लाइन्स फाटक होते हुए आवास पर जाना पड़ा।

रात करीब 10 बजे MGF मॉल 22 गोदाम के सामने धरने पर बैठे संघ से जुड़े पटवारी।

रात करीब 10 बजे MGF मॉल 22 गोदाम के सामने धरने पर बैठे संघ से जुड़े पटवारी।

इस सड़क जाम से राजमहल चौराहे से 22 गोदाम सर्किल आने वाले ट्रैफिक को सी-स्कीम, सिविल लाइन्स फाटक और परिवहन मार्ग होते हुए डायवर्ट करना पड़ा। वहीं राम मंदिर सर्किल से 22 गोदाम आने वाले ट्रैफिक को भी सिविल लाइन्स फाटक होते हुए डायवर्ट करना पड़ा। इससे पहले जब इन पटवारियों का दल अजमेर रोड 200 फीट पुलिया से जयपुर शहरी सीमा में प्रवेश करा तो कई जगह वाहनों का लम्बा जाम लग गया। 200 फीट पुलिया अजमेर रोड से ये दल सोडाला, अजमेर रोड एलीवेटेड, अजमेर पुलिया, खासा कोठी तिराहा, कमीश्नरेट, सरदार पटेल मार्ग, चौमूं हाउस होते हुए 22 गोदाम पहुंचा।

22 गोदाम से विधानसभा कूच के दौरान जब पटवारियों से पुलिस की झड़प हुई तो वे 22 गोदाम सर्किल पर ही धरने पर बैठ गए।

22 गोदाम से विधानसभा कूच के दौरान जब पटवारियों से पुलिस की झड़प हुई तो वे 22 गोदाम सर्किल पर ही धरने पर बैठ गए।

पे-ग्रेड बढ़ाने की मांग पर अड़े पटवारी

तीन सूत्रीय मांगों को लेकर प्रदेशभर के करीब 5 हजार से ज्यादा पटवारी 135 किलोमीटर का पैदल चलकर जयपुर पहुंचे, जहां उन्होंने विधानसभा कूच का प्रयास किया तो पुलिस ने उन्हें 22 गोदाम पुलिया पर रोक लिया। इस बीच कुछ पटवारियों और पुलिसकर्मियों के बीच मामूली झड़प भी हुई। घटना के बाद नाराज हुए सभी पटवारी 22 गोदाम सर्किल के पास एमजीएफ मॉल के सामने धरने पर बैठ गए। दोपहर करीब पौने चार बजे धरने पर बैठे ये देर रात तक डटे रहे।

राजस्थान पटवार संघ के प्रदेशाध्यक्ष राजेन्द्र निमिवाल ने बताया कि सरकारी कर्मचारियों में पटवारियों का वेतन सबसे कम है, जबकि पटवारी पूरे समय दिन रात फील्ड में रहकर काम करते हैं। पटवारियों की वेतन वृद्धि की मांग काफी समय से चली आ रही है और इस मांग को लेकर 2018 में सरकार के साथ समझौता भी हुआ था। मगर उसके बाद भी समझौते का पालन नहीं किया गया। उन्होंने ग्रेड पे 2400 से बढ़ाकर 3600 रुपए करने, पदोन्नति में समय सीमा 7-14-21-28-32 वर्ष किए जाने तथा नो वर्क-नो पे आदेश को वापस लिए जाने की मांग की।

पटवारियों के धरने के कारण सरदार मार्ग पर राजमहल चौराहे से 22 गोदाम सर्किल आने वाले ट्रैफिक को डायवर्ट करते हुए।

पटवारियों के धरने के कारण सरदार मार्ग पर राजमहल चौराहे से 22 गोदाम सर्किल आने वाले ट्रैफिक को डायवर्ट करते हुए।

राजस्व मंत्री से मिलने पहुंचे दल की वार्ता हुई विफल

लंबे समय से मांग पर अड़िग हुए पटवारियों से मिलने ज्वाइंट सचिव राजस्व विभाग एम.पी. मीणा, जयपुर एडीएम सहित प्रशासन-पुलिस के अधिकारी गए लेकिन वह नहीं माने। इसके बाद पटवारियों का 6 सदस्यीय दल शाम करीब 7 बजे राजस्व मंत्री के सरकारी निवास पर वार्ता के लिए पहुंचा। जहां से ढाई घंटे बाद वापस दल लौटा, लेकिन वार्ता विफल रही। वार्ता विफल के बाद भी पटवारियों का दल वहीं मौके पर डटा रहा।

पटवारियों के धरने के कारण राम मंदिर सर्किल से 22 गोदाम पुलिया होते हुए भवानी सिंह लेन आने वाला मार्ग भी बंद कर दिया।

पटवारियों के धरने के कारण राम मंदिर सर्किल से 22 गोदाम पुलिया होते हुए भवानी सिंह लेन आने वाला मार्ग भी बंद कर दिया।

गिरफ्तारी के डर से शिफ्ट हुए शहीद स्मारक

रात करीब 10 बजे के बाद भी लाउड स्पीकर चलाने और धरना देने के बाद पुलिस प्रशासन ने सख्ती की और प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार करने की चेतावनी दी। इस दौरान मौके पर पुलिस आयुक्त आनन्द श्रीवास्तव भी मौके पर पहुंच गए। पुलिस और आंदोलनकारियों के बीच धरने के लिए अनुमति देने और जगह उपलब्ध करवाने पर वार्ता चली। इसके बाद पुलिस ने कमीश्नरेट के पास शहीद स्मारक पर धरना देने की अनुमति दी, तब जाकर पटवारियों का दल रात करीब 11 बजे 22 गोदाम सर्किल से हटा।

पटवारियों के इस धरने प्रदर्शन में महिला पटवारी भी शामिल हुईं, जो देर रात तक डटी रही।

पटवारियों के इस धरने प्रदर्शन में महिला पटवारी भी शामिल हुईं, जो देर रात तक डटी रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *