दोस्त के साथ दगाबाजी: धोखे से मोबाइल में से UPI का पिन चुराया फिर फोन नंबर ही पोर्ट करवाकर 1.23 लाख रुपए ट्रांसफर किए


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जयपुर15 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

धोखाधड़ी करके बैंक खाते से 1.23 लाख रुपए निकालने के मामले में पकड़ा गया आरोपी युवक।

धोखे से UPI का पिन चुराकर बैंक खाते से 1.23 लाख रुपए निकालने के मामले में जयपुर की सांगानेर सदर थाना पुलिस ने एक युवक को पकड़ा है। पकड़ा गया यह युवक जयपुर में सीतापुरा स्थित एक फैक्ट्री में काम करता है। पुलिस ने आरोपी के पास से रुपए और वारदात को अंजाम देने के लिए उपयोग में लिया फोन बरामद किया है।

पुलिस उपायुक्त दक्षिण हरेन्द्र सिंह ने बताया कि श्याम सिंह पुत्र कल्याण सिंह ने 28 फरवरी को एक रिपोर्ट दर्ज करवाई की। उसके पिता का 24 फरवरी को मोबाइल बंद हो गया और जब वह 26 फरवरी को बैंक से पैसे निकालने गए तो खाते में पैसे भी जमा नहीं मिले। इस पर पुलिस ने सांगानेर सदर थानाधिकारी हरपाल सिंह के निर्देशन में उपनिरीक्षक आशुतोष, कांस्टेबल राजेश, जगदीश और नरेश कुमार की टीम जांच के लिए बनाई। टीम ने दो दिन के अंदर जांच-पड़ताल के बाद वारदात को अंजाम देने वाले महेश कुमार (22) निवासी गांंव विधाणी शिवदासपुरा को गिरफ्तार किया। गिरफ्तार किए आरोपी के पास से 1.23 लाख रुपए और मोबाइल फोन बरामद किया।

यूं दिया वारदात को अंजाम

उपनिरीक्षक आशुतोष ने बताया कि आरोपी महेश सीतापुरा स्थित फैक्ट्री में काम करता है। इसी फैक्ट्री के बाहर श्याम सिंह की चाय की थड़ी है, जहां वह आता-जाता है। थड़ी पर श्याम का पुत्र सचिन (15) भी वहीं बैठता है और काम-काज में सहयोग करता है। इस बीच आरोपी युवक महेश ने सचिन के साथ दोस्ती की। करीब 3-4 गहरी दोस्ती होने के बाद आरोपी ने धोखे से सचिन के मोबाइल से उसका UPI पिन चुरा लिया। यही नहीं सचिन की फोटो भी स्क्रीन शॉट करके ले ली। इसके बाद आरोपी ने सचिन के मोबाइल नंबर को ऑनलाइन पोर्ट (एक कंपनी से दूसरी कंपनी में बदलवाना) करवाया और पोर्ट की हुई सिम को खुद उपयोग करने लगा।

इस सिम का उपयोग करके आरोपी ने पेटीएम एप खोला और उसके जरिए सचिन के दादा के बैंक खाते से अलग-अलग ट्रांजेक्शन के जरिए 1.23 लाख रुपए अपने पेटीएम में ट्रांसफर कर लिए। इन सभी ट्रांजेक्शन का पीड़ित को इसलिए नहीं पता चला क्योंकि उसका मोबाइल तो बंद ही हो गया था और मैसेज भी नहीं आ रहे थे। मामले का खुलासा तब हुआ जब पीड़ित श्याम सिंह अपने पिता के संग बैंक में पैसे निकालने गया। वहां जाकर देखा तो बैंक से सारे पैसे निकल चुके हैं।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *