झूठे शपथ पत्र का मामला: फैसला थोड़ी देर में, सलमान वर्चुअल उपस्थित होंगे कोर्ट में, बहन अलवीरा पहुंच रही है जोधपुर


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जोधपुर9 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

सलमान खान।

  • फैसले को लेकर सलमान खेमे में हलचल तेज

फिल्म अभिनेता सलमान खान की ओर से अपने हथियार लाइसेंस खो जाने को लेकर कोर्ट में 17 वर्ष पूर्व पेश झूठे शपथ पत्र के मामले में आज जिला एवं सत्र जिला जोधपुर जज राघवेंद्र काछवाल साढ़े तीन बजे अपना फैसला सुनाएंगे। इस फैसले को सुनने के लिए सलमान वर्चुअल रूप से कोर्ट में उपस्थित रहेंगे। वहीं उनकी बहन अलवीरा के भी जोधपुर पहुंचने की संभावना है।

फिल्म अभिनेता सलमान खान द्वारा कोर्ट में अपने हथियारों के खो जाने को लेकर दिए गए झूठे शपथ पत्र के मामले में सरकार द्वारा पेश सीआरपीसी की धारा 340 में पेश अर्जी पर आज जिला एवं सत्र जिला जोधपुर न्यायालय का फैसला आएगा। इसे लेकर सलमान के खेमे में हलचल तेज हो गई है। 22 वर्ष पूर्व हिरण शिकार प्रकरण में सलमान के फंसने के बाद से उनका मामला देख रही बहन अलवीरा हमेशा महत्वपूर्ण अवसरों पर जोधपुर कोर्ट में उपस्थित रही है। आज भी उनके यहां पहुंचने की पूरी संभावना है।

सलमान ने आर्म लाइसेंस रिन्यू होने दिया, कोर्ट में कहा-गुम हो गया

सलमान को 1998 में जोधपुर के पास कांकाणी गांव की सीमा में 2 काले हिरणों के शिकार के मामले में गिरफ्तार किया गया था। इस मामले की सुनवाई के दौरान कोर्ट ने उनसे हथियारों का लाइसेंस मांगा था। इस पर सलमान ने 2003 में कोर्ट में एफिडेविट देकर बताया था कि लाइसेंस कहीं खो गया है। इस बारे में उन्होंने मुंबई के बांद्रा पुलिस थाने में दर्ज प्राथमिकी की कॉपी भी लगाई थी। इसके तहत सलमान ने 8 अगस्त 2003 को लाइसेंस गुमशुदगी का मामला दर्ज कराया था। इसके बाद कोर्ट को पता चला कि सलमान का आर्म लाइसेंस गुम नहीं हुआ, बल्कि उन्होंने इसे रिन्यू कराने के लिए दिया है। तब पब्लिक प्रोसिक्यूटर भवानी सिंह भाटी ने मांग की थी कि सलमान के खिलाफ कोर्ट को गुमराह करने का केस दर्ज किया जाए।

वकील ने कहा- सलमान बहुत बिजी थे, इसलिए भूल गए

इस मामले की अंतिम बहस के दौरान सलमान के वकील ने दलील दी कि बहुत ज्यादा बिजी होने की वजह से सलमान यह बात भूल गए थे कि उनका लाइसेंस रिन्यू होने के लिए दिया हुआ है। इसलिए उन्होंने कोर्ट में लाइसेंस गुम होने की बात कही। सलमान के वकील ने सुप्रीम कोर्ट के एक फैसले का हवाला देते हुए कहा कि अगर किसी मामले में आरोपी को कोई फायदा नहीं हो और गलती से झूठा एफिडेविट पेश हो जाए तो उसे बरी कर दिया जाना चाहिए।

यह है सजा का प्रावधान

यदि सलमान इस मामले में दोषी पाए जाते हैं तो सलमान पर आईपीसी की धारा 193 के तहत मुकदमा दर्ज किया जा सकता है। जिसमें दोषी पाए जाने पर अधिकतम 7 वर्ष के कारावास तथा अर्थदंड का प्रावधान है।उल्लेखनीय है कि सुप्रीम कोर्ट के कई आदेशों में किसी व्यक्ति द्वारा कोर्ट में विचाराधीन मामले में किसी प्रकार का लाभ नहीं लेने के उद्देश्य से गलती से बोलेंगे झूठ या गलत पेश किए गए साक्ष्य और बाद में स्वयं की गलती को स्वीकार कर लेने पर कई मामलों में आरोपियों को दोषमुक्त किया गया है। लेकिन यहां गौर करने वाली बात यह है कि सलमान की ओर से कभी भी कोर्ट को यह सूचना नहीं दी गई कि उसने भूलवश यह शपथ पत्र पेश कर दिया है ऐसे में कोर्ट का रुख सलमान के मामले में क्या रहता है यह देखने वाली बात होगी साथ ही आज का दिन सलमान के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *