जरूरत: सिंचाई करते वक्त कुंए में गिरा बांकाराम, रीढ़ की हड्‌डी टूटी और दोनों पैर कटे, 13 साल से चारपाई पर, रोजी रोटी का संकट


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

धोरीमन्ना19 दिन पहले

  • कॉपी लिंक
  • सुदाबेरी ग्राम पंचायत के शंकरपुरा निवासी लाचार बांकाराम का धन के अभाव में नहीं हो रहा इलाज

सुदाबेरी ग्राम पंचायत के शंकरपुरा गांव निवासी बांकाराम प्रजापत पिछले तेरह साल से चारपाई पर है। तेरह साल पहले कुंए पर सिंचाई करते समय कुंए में गिर गया। इससे उसकी रीढ़ की हड्‌डी में फैक्चर हो गया और दोनों पैर भी खराब हो गए। अब उसकी पूरी जिंदगी चारपाई पर सिमट कर रह गई।

रीढ़ की हड्‌डी व पैर फैक्चर होने के बाद इलाज करवाया। इलाज के दौरान दोनो पैर खराब हो गए और डॉक्टर ने पैर को काट दिए। इसके बाद कुछ समय पत्नी ने बांकाराम की चारपाई पर ही सेवा की और अब वह भी साथ छोड़कर चली गई। घर में कमाने वाला कोई नहीं है। न ही बांकाराम को सरकार की और से अभी तक कोई सहायता या योजना का लाभ मिला है।

घर में कमाने वाला कोई नहीं, बेटी और खुद का गुजारा चलाना मुश्किल
विकलांग बाकाराम का कहना है कि वह तेरह साल से चारपाई पर जिंदगी गुजार रहा है। पहले पत्नी साथ थी लेकिन मेरी हालत खराब होते हुए देखकर वह भी छोड़कर चली गई। अब दस साल की बेटी उसके साथ है। ऐसे में दोनों का पालन पोषण मुश्किल हो गया है।

अब घर में भोजन का संकट मंडरा रहा है। सरकार से अभी पेंशन और पालनहार के अलावा कुछ भी सहायता नहीं मिली है। पेंशन के सहारे गुजारा बड़ी मुश्किल से चल रहा है। इस संबंध में कई बार मुख्यमंत्री सहित अधिकारियों के नाम ज्ञापन सौंपे है लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई।

भामाशाह आगे आए तो मिले सुविधा
बांकाराम की आर्थिक स्थिति बहुत ही खराब है। एक छोटी बच्ची और खुद लाचार होने की वजह से घर में कमाने वाला कोई नहीं है। पत्नी भी साथ छोड़कर चली गई। ऐसे में उनकी देखभाल करने वाला कोई नहीं है। साथ ही आर्थिक स्थिति खराब होने की वजह से उसका इलाज भी संभव नहीं हो पा रहा है। पिछले तेरह साल से वह चारपाई पर अपनी जिंदगी गुजार रहा है। ऐसे में कोई स्वयंसेवी संस्था या भामाशाह आगे आकर बांकाराम का इलाज करवाए तो वह भी सामान्य जिंदगी जी सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *