जयपुर में जैन मंदिर में डकैती का खुलासा: चौकीदार रह चुके हिस्ट्रीशीटर ने ही रची थी वारदात, 5 किमी में लगे 200 सीसीटीवी फुटेज खंगाल पकड़ा गैंग


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जयपुर3 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

जयपुर में 50 पुलिसकर्मियों की टीम ने 7 दिनों तक ऑपरेशन चलाकर 4 फरवरी को जैन मंदिर में हुई डकैती की साजिश का खुलासा किया। दो बदमाश गिरफ्तार भी किए

  • 10 अफसरों के नेतृत्व में 50 पुलिसकर्मियों की टीम ने एकजुट होकर किया काम
  • दो आरोपी गिरफ्तार, सरगना सहित छह जने फरार, 4 फरवरी को हुई थी डकैती

शहर में टोंक रोड पर महावीर नगर स्थित दिगंबर जैन मंदिर में 4 फरवरी को हुई लूट व नकबजनी की वारदात एक पेशेवर गिरोह ने की थी। वारदात का मास्टरमाइंड अलवर जिले का एक हिस्ट्रीशीटर है। वह करीब एक साल पहले इसी मंदिर में चौकीदार बनकर रहा था। रुपयों की जरुरत होने पर बदमाश ने अपनी गैंग के साथ जैन मंदिर में नकबजनी की साजिश रची।

वारदात के खुलासे के लिए डीसीपी पूर्व अभिजीत सिंह के निर्देशन में एसीपी महेंद्र शर्मा, बजाज नगर थानाप्रभारी रमेश सैनी सहित करीब 10 अफसरों के निर्देशन में 50 पुलिसकर्मियों की टीम ने सात दिनों तक मंदिर एरिया के 5 किलोमीटर के दायरे में लगे 200 से ज्यादा सीसीटीवी फुटेज खंगाले। पीजी हाउस, होटल, रेलवे स्टेशन, फुटपाथ पर पूछताछ की। इस बीच डीसीपी पूर्व ऑफिस में सायबर सेल के प्रभारी हेडकांस्टेबल प्रधुमन शर्मा को अहम सुराग मिला। इसके बाद गैंग में शामिल एक बदमाश और चुराए गए सामान को खरीदने वाला एक ज्वैलरी कारोबारी को बजाज नगर थाना पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

महावीर नगर में 4 फरवरी को हुई थी दिगंबर जैन मंदिर में लूट व नकबजनी की वारदात

महावीर नगर में 4 फरवरी को हुई थी दिगंबर जैन मंदिर में लूट व नकबजनी की वारदात

खरीददार सहित दो जने गिरफ्तार, सरगना सहित छह बदमाश है फरार

डीसीपी पूर्व अभिजीत सिंह ने बताया कि वारदात में शामिल गिरफ्तार आरोपी सुनील चौधरी (20) जोबनेर, जिला जयपुर ग्रामीण का रहने वाला है। जबकि दूसरा आरोपी सतीश चन्द सोनी (38) सुनारों का मोहल्ला, गांव चोरू थाना फागी जिला जयपुर ग्रामीण में रहता है। वह ज्वैलरी कारोबारी है। मंदिर से चुराए गए आभूषण सतीशचंद ने खरीदे थे। इसके अलावा अलवर जिले में रैणी का हिस्ट्रीशीटर गैंग का सरगना लोकेन्द्र सिंह चौहान, फागी निवासी गणेश जाट, मोरिजा चौमूं निवासी कमलेश शर्मा, सांभर निवासी राजू चौधरी, रूपवास भरतपुर निवासी सौरभ शर्मा, रैणी अलवर निवासी लालचन्द वर्मा उर्फ लालू फरार चल रहे है।

मंदिर में एक साल पहले चौकीदार रहे हिस्ट्रीशीटर ने रची साजिश:

डीसीपी अभिजीत सिंह ने बताया कि गैंग के सरगना हिस्ट्रीशीटर लोकेंद्र सिंह चौहान ने महावीर नगर स्थित दिगम्बर जैन मंदिर में लूट की साजिश रची थी। वह करीब एक साल पहले इस मंदिर में चौकीदार बनकर रहा था। ऐसे में रुपयों की जरुरत होने पर लोकेंद्र ने वारदात के लिए गैंग तैयार की। इसके बाद वारदात को अंजाम दिया। लोकेन्द्र सिंह के खिलाफ जयपुर के पूर्व, पश्चिम और दक्षिण जिले, सवाई माधोपुर, अलवर तथा दौसा के विभिन्न थानों में चोरी, लूट,नकबजनी व अवैध हथियार के 14 केस दर्ज है।

वारदात के लिए दो दिन पहले एक कार चुराई, इसी में घूमकर रैकी, फिर लूटपाट कर भागे

मालवीय नगर एसीपी महेंद्र शर्मा ने बताया कि फरार सरगना लोकेंद्र सिंह अलवर जिले के रैणी का रहने वाला है। वहीं का आदतन बदमाश है। उसने जैन मंदिर में लूट को अंजाम देने से पहले श्याम नगर इलाके से 2 फरवरी को एक सेन्ट्रो कार चुराई थी। इसी कार से लोकेंद्र ने दो तीन साथियों के साथ मंदिर के आसपास घूमकर रैकी की। फिर तीन चौपहिया गाड़ियों से गैंग के सभी बदमाश मंदिर में लूटपाट करने पहुंचे। उन्होंने मंदिर परिसर में सो रहे दो सेवादारों के जागने पर उनसे मारपीट कर हथियार दिखाया और कमरे में बंद कर दिया।

अपने मोबाइल घर पर छोड़े, परिचितों के नाम से जारी मोबाइल सिम का उपयोग किया

गैंग में शामिल सभी बदमाश आदतन व पेशेवर है। इसलिए इन्होंने मंदिर पहुंचने पर अपने मोबाइल फोन का उपयोग नहीं किया। घटना से पहले आपस में सम्पर्क में रहने के लिये बदमाशों ने अपने परिचितों से बहाना बनाकर उनके नाम से नई मोबाइल फोन की सिम ली। लूटपाट कर भागने के बाद उसको बंद कर दिया। वहीं, अपनी पहचान छिपाने के लिए काले रंग के मास्क, काले रंग के कपड़े एवं हाथों में दस्ताने पहन कर वारदात को अंजाम दिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *