कोर्ट ने सुनाया फैसला: पॉक्सो कोर्ट ने नाबालिग से दुष्कर्म के 2 अलग-अलग मामलों में 3 आरोपियों को सजा सुनाई


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोटा5 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

पॉक्सो कोर्ट ने नाबालिग से दुष्कर्म के दो अलग अलग मामलों में 3 आरोपियों को सजा सुनाई है।

पॉक्सो कोर्ट ने नाबालिग से दुष्कर्म के दो अलग-अलग मामलों में 3 आरोपियों को सजा सुनाई है। तीनों आरोपियों को 60 हजार के अर्थदण्ड से दंडित किया हैं। दोनों मामलों में आरोपी नाबालिग को बहला फुसलाकर अपने साथ भगाकर ले गए थे।

विशिष्ट लोक अभियोजक सुरेश वर्मा ने बताया कि पीडिता के पिता ने 2 जुलाई 2018 को बूढ़ादित थाने में शिकायत दी थी। इसमें बताया था कि 30 जून 2018 को वो उसकी पत्नी के साथ छोटा किरपुरा प्रोग्राम में गया था। उसकी 14 साल की बेटी घर पर अकेली थी। सुबह वापस लौटे तो बेटी घर से गायब मिली। आरोपी नाबालिग को रेत भरने के बहाने बहला फुसलाकर अपने साथ रायला जिला भीलवाड़ा ले गया। 17 दिन अपने साथ रखा। कमरा लेकर शादी का झांसा देकर दुष्कर्म किया।

शिकायत पर पुलिस ने कार्रवाई कर आरोपी को गिरफ्तार किया व पीड़िता को दस्तयाब किया। अनुसंधान के बाद कोर्ट में चालान पेश किया। सुनवाई के बाद पॉक्सो न्यायालय क्रम 5 ने मामले में आरोपी धर्मराज को 14 साल कठोर कारावास व 25 हजार के अर्थदण्ड से दंडित किया।

विशिष्ट लोक अभियोजक प्रेम नारायण नामदेव ने बताया कि नाबालिग से दुष्कर्म करने के 7 साल पुराने मामले में पॉक्सो क्रम संख्या 1 ने दो आरोपियों 7-7 साल की सजा व 35 हजार के अर्थदण्ड से दंडित किया हैं। मामले के मुताबिक 26 अक्टूबर 2014 को पीड़िता के पिता ने उद्योग नगर थाना में रिपोर्ट दर्ज कराई थी।

आरोप था कि बृजेश कुमार नामक युवक अपने साथी लाला उर्फ जितेंद्र की मदद से पीड़िता को ट्रेन से बेगूसराय लेकर गया। जहां लाला की मौसी के यहां रखा गया। बेगूसराय में आरोपी ने पीड़िता के साथ दुष्कर्म किया। शिकायत पर पुलिस ने पीड़िता को दस्तयाब कर दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर कोर्ट में चालान पेश किया। न्यायालय में अभियोजन पक्ष की ओर से 11 गवाहों के बयान दर्ज कराए गए।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *