कोर्ट का फैसला: दहेज हत्या में आरोपी पति को कोर्ट ने 10 साल की सजा सुनाई


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोटा7 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

महिला उत्पीड़न एवं दहेज प्रकरण क्रम संख्या- दो ने आरोपी पति महेंद्र को 10 साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई है

दहेज हत्या के करीब साढ़े तीन साल पुराने मामले में कोर्ट ने आरोपी पति को सजा सुनाई है। महिला उत्पीड़न एवं दहेज प्रकरण क्रम संख्या- दो ने आरोपी पति महेंद्र को 10 साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई है। जबकि सास और ननद को साक्ष्य के अभाव में बरी कर दिया गया। पति पर आरोप था कि दहेज नहीं देने पर वो दूसरी शादी करने की धमकी देता रहता था। सास और ननंद ने दहेज की मांग को लेकर मृतका को घर से निकाल दिया था। शादी के 8 माह बाद ही विवाहिता की दहेज हत्या की बलि चढी थी।

विशिष्ट लोक अभियोजक भूपेंद्र मित्तल ने बताया कि फरियादी रामकिशन निवासी मुंडक्या ने कनवास पुलिस थाना में रिपोर्ट दर्ज कराई थी। जिसमें कहा था था कि उसकी छोटी बेटी दमयंती उर्फ दिव्या की शादी 9 मई 2016 को छत्रपुरा सम्मेलन में महेंद्र उर्फ सोनू निवासी कनवास के साथ हुई थी। शादी के बाद से महेंद्र उसकी पत्नी दमयंती को परेशान करता रहता था। दहेज में गाड़ी की मांग करता था। दहेज नहीं देने पर दूसरी शादी करने की धमकी देता रहता था।

पति महेंद्र ,सास आरती बाई और ननंद अंजली ने दहेज की मांग को लेकर दमयंती को घर से निकाल दिया था। समाज के लोगों की समझाइश से दमयंती वो वापस ससुराल कनवास भेजा। 10 अगस्त 2017 ससुराल में दमयंती की लाश मिली। ससुराल वालों से मृत्यु का कारण पूछा तो कोई जवाब नहीं दिया। पति, सास व ननंद ने दहेज की मांग को लेकर बेटी दमयंती को मार डाला।

शिकायत पर पुलिस ने आरोपी महेंद्र उर्फ सोनू, सास आरती बाई एवं अंजली उर्फ लल्ला बाई को गिरफ्तार किया था। अनुसंधान के दौरान तीनों आरोपियों के खिलाफ धारा 304 बी/34 एवं 201/34 में न्यायालय में चालान पेश किया था। अभियोजन पक्ष की ओर से 19 गवाहों के बयान दर्ज कराए गए। अदालत ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद आरोपी सास आरती बाई एवं अंजली उर्फ लल्ला बाई को दोषमुक्त कर दिया। जबकि आरोपी महेंद्र उर्फ सोनू को 10 साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई है।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *