कैसे होगी पढ़ाई?: छात्र बोले-कॉलेज खोल दिए, पाठ्यक्रम तय नहीं, कॉलेज में प्रदर्शन कर प्राचार्य का घेराव किया


  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • Kota,rajasthan,Students Said Opened The College, Syllabus Not Decided, Demonstrated In The College And Surrounded The Principal

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोटा2 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

कोटा विश्वविद्यालय द्वारा अभी तक पाठ्यक्रम तय नहीं करने व सप्लीमेंट्री परीक्षा फार्म जमा नहीं होने से विद्यार्थी परेशान है। गवर्मेंट कॉलेज के छात्र संघ अध्यक्ष विनयराज सिंह की अगुवाई में विद्यार्थियों ने प्रदर्शन किया और प्राचार्य का घेराव किया।प्रदर्शनकारी विद्यार्थियों ने सिलेबस में कटौती करने व पूरक परीक्षा पोर्टल दुबारा खोलने की मांग की। मांग पूरी नहीं होने पर आंदोलन की चेतावनी दी।

गवर्मेंट कॉलेज के विद्यार्थियों ने प्रदर्शन किया और प्राचार्य का घेराव किया।प्रदर्शनकारी विद्यार्थियों ने सिलेबस में कटौती करने व पूरक परीक्षा पोर्टल दुबारा खोलने की मांग की।

गवर्मेंट कॉलेज के विद्यार्थियों ने प्रदर्शन किया और प्राचार्य का घेराव किया।प्रदर्शनकारी विद्यार्थियों ने सिलेबस में कटौती करने व पूरक परीक्षा पोर्टल दुबारा खोलने की मांग की।

विनयराज सिंह ने बताया 18 जनवरी से विवि एवं महाविद्यालय को खोल दिए गए, लेकिन पाठ्यक्रम कम तय करने, परीक्षाओं को लेकर कोई गाइड लाइन जारी नहीं हुई है। हाल ही में विवि ने पुनर्मूल्यांकन का परिणाम जारी कर दिया। ऐसे में कई विद्यार्थी सप्लीमेंट्री की परीक्षा नही दे पाएंगे। क्योकि सप्लीमेंट्री परीक्षा के फार्म जमा करने की तिथि पहले निकल चुकी है।

गौरतलब है कि कोटा विवि ने पुनर्मूल्यांकन के साथ साथ सप्लीमेंट्री के फार्म भी जमा करवा लिए। लेकिन कई विद्यार्थी इसी आस में थे कि उनके पुनर्मूल्यांकन में ही नम्बर बढ़ जाएंगे। इस कारण उन्होंने सप्लीमेंट्री फार्म जमा नही करवाए, लेकिन जब नम्बर बढ़कर सप्लीमेंट्री आ गई तो अब वे कैसे परीक्षा दे पाएंगे। जबकि 15 फरवरी से सप्लीमेंट्री की परीक्षा होने जा रही है। साथ ही जो परीक्षा देंगे उनका परिणाम कब तक आएगा और किस प्रकार वह अगले सत्र की तैयारी करके रूपरेखा बनाएंगे।

उधर सिलेबस की गाइड लाइन जारी नही होने से विद्यार्थी पढ़ाई को लेकर परेशान है। कैसे वे परीक्षाओं की तैयारी करें, क्योंकि उनके पास अब केवल सीमित समय ही बचा है। जबकि आरटीयू ने संबद्ध कॉलेजों में कोर्स में कटौती कर दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *