कृषि विवि में आंदोलन का सातवां दिन: आंदोलनकारी को पीबीएम ले गए, फिर अनशन पर बैठा, विधायक गोदारा भी पहुंचे


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बीकानेर18 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

स्वामी केशवानंद राजस्थान कृषि विवि में लगातार सात दिन से चल रहे आंदोलन और विषय वस्तु विशेषज्ञ राजवीर चौधरी के अनशन के बाद आंदोलन तेज होने लगा है। रविवार को अनशनकारी राजवीर की तबियत बिगड़ने पर उसे पीबीएम में भर्ती किया गया।

ड्रिप और कुछ देर इलाज करने के बाद मेडिकल चैकअप किया गया। स्थिति सामान्य होने पर उसे अस्पताल से छुट्टी दे दी गई लेकिन अस्पताल से राजवीर फिर धरना स्थल पर पहुंचा और अनशन शुरू कर दिया।

कर्मियों की मांग है कि उन्हें सातवां वेतनमान दिया जाए, प्रोबेशनर्स को स्थायी किया जाए, वेतन स्थिरीकरण हो और लंबित पदोन्नति दी जाए। इसको लेकर एक सप्ताह से विवि कैंपस में आंदोलन चल रहा है। विवि ने आंदोलनकारियों काे कहा कि प्रस्ताव सरकार के पास भेजे हैं।

अगर सरकार स्वीकृति देती है तो वे उनकी मांगें मान लेंगे, लेकिन प्रदर्शनकारियों का कहना है कि जब बिना सरकार के पास मामला भेजे प्रदेश के अन्य कृषि विवि ने ये मांगे पूरी कर दी तो बीकानेर कृषि विवि क्यों सरकार के पास प्रस्ताव भेज रहा है।

धरने से अब राजनीतिक लोग भी जुड़ते जा रहे हैं। एक दिन पहले खाजूवाला विधायक गोविंद मेघवाल और पूर्व राज्यसभा सांसद जमना बारूपाल धरनास्थल पर पहुंची थी तो सोमवार को लूणकरणसर विधायक सुमित गोदारा भी पहुंचे। गोदारा ने मांगों को लेकर सरकार को कोसा।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *