कीजिए एक साथ 525 शिवलिंग के दर्शन: महाशिवरात्रि पर कोटा के शिवपुरी धाम में सजा ‘भोले’ का दरबार


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोटा17 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

महाशिवरात्रि के अवसर पर शिवपुरीधाम में सात दिवसीय कथा विश्राम के बाद तीन दिवसीय नवकुण्डीय महायज्ञ का समापन बुधवार को अभिजीत मुहूर्त में हुआ

कोटा के थेगड़ा स्थित शिवपुरी धाम में शिवनगरी बसती है यहां 525 शिवलिंग की स्थापना स्वास्तिक आकर में की गई है जो इन्हें खास बनाती है। यहां एक सहस्त्र शिवलिंग भी है जो 11 फिट लम्बा है। उसको लेकर भी खास मान्यता है। ऐसा कहा जाता है कि नेपाल के पशुपति नाथ मंदिर के बाद देश का इकलौता ऐसा शिवालय (तीर्थ) है जहाँ भक्त एक साथ 525 शिवलिंग के दर्शन कर पाते है।

नेपाल के पशुपति नाथ मंदिर के बाद देश का इकलौता ऐसा शिवालय (तीर्थ) है जहां भक्त एक साथ 525 शिवलिंग के दर्शन कर पाते है।

नेपाल के पशुपति नाथ मंदिर के बाद देश का इकलौता ऐसा शिवालय (तीर्थ) है जहां भक्त एक साथ 525 शिवलिंग के दर्शन कर पाते है।

संत सनातनपुरी जी महाराज ने बताया कि शिक्षानगरी कोटा में कई सिद्ध धार्मिक स्थल होने से यहां बाहर के विद्यार्थी, अभिभावक व हजारों श्रद्धालु दर्शन के लिए आते हैं। पूरे देश में 525 शिवलिंगों के लिए विख्यात तीर्थस्थल शिवपुरीधाम में हर वर्ष लाखों श्रद्धालु यहां भगवान भोलेनाथ के दर्शन व पूजा-अर्चना के लिए पहुंचते हैं। खासकर सावन के महीने में यहां भक्तों का मेला लगता है। शिव के इस धाम पर पिछले 35 वर्षों से अनवतरत चेतन धूनी प्रज्जवलित है।

संत सनातनपुरी जी महाराज ने बताया कि महाशिवरात्रि के अवसर पर शिवपुरीधाम में सात दिवसीय कथा विश्राम के बाद तीन दिवसीय नवकुण्डीय महायज्ञ का समापन बुधवार को अभिजीत मुहूर्त में हुआ। 525 शिवलिंगों को नये वस्त्र धारण करवाकर फूलमालाओं से सजाया गया।और सवा करोड़ मंत्रोंच्चार के साथ यज्ञ में आहूतियां दी गई। लोग भोले के दरबार में दर्शन के लिए आ रहे है।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *