कार समेत डूबने से 4 की मौत का मामला: हादसे के वक्त फोन पर मदद के लिए चिल्लाते रहे चारों, 15 मिनट बाद सब शांत हो गया; पति को सरप्राइज देने आ रही थी महिला


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

हनुमानगढ़5 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

मृतक विनोद अरोरा पत्नी रेनू और बेटी ईशा। जिनकी हादसे में मौत हो गई। साथ में सुनीता भाटी ने भी दम तोड़ दिया। जो पति को सरप्राइज देने आ रही थी।

जिले के टाउन थाना क्षेत्र में लखुवाली के पास देर रात एक गाड़ी के नहर में गिर गई। हादसे में चार लोगों के मौत हो गई। मृतकों में एक पुरुष, दो महिला और एक बच्ची शामिल है। मंगलवार देर रात हुए हादसे में बुधवार दिन में करीब 1:30 तीनों के शवों को बाहर निकाला गया। इस हादसे में विनोद अरोरा, पत्नी रेनू, बेटी ईशा और एक महिला सुनीता भाटी की मौत हो गई।

जांच में सामने आया कि घटना के वक्त सुनीता भाटी ने अपने पति को फोन किया था। इस दौरान गाड़ी लुढ़क कर नहर में चली गई। करीब 15 मिनट तक सुनीता का फोन चालू रहा। उसने फोन पर पति को बताया कि हमारी गाड़ी नहर में गिर गई है। जिसके बाद चिल्लाने की आवाजें आने लगी। सभी मदद के लिए चिल्लाते रहे। विनोद अरोरा के फोन पर भी करीब 15 मिनट तक घंटियां जा रही थी। इसके बाद सब कुछ शांत हो गया। सभी के फोन बंद हो गए।

पति को सरप्राइज देने आ रही थी महिला
मृतक सुनिता भाटी का पति संदीप भी संगरिया के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय फतेहगढ़ में लेक्चरर हैं। परिवार ने बताया कि सुनिता भाटी दोनों बेटों के साथ सीकर ही रहती थी। जो विनोद अरोरा की गाड़ी में सीट खाली होने का कारण उनके साथ आ रही थी। सुनिता अपने पति संदीप को सरप्राइज देना चाहती थी।

गाड़ी नहर से बाहर निकाली गई।

गाड़ी नहर से बाहर निकाली गई।

गाड़ी में अधिकांश लोग सो रहे थे

बताया जा रहा है कि घटना के वक्त गाड़ी में सभी लोग सो रहे थे। सिर्फ सुनीता ही जागी हुई थी। अचानक गाड़ी नहर में फिसलने से वो संभल नहीं पाई। जिससे सभी की मौत हो गई।

बेटी को कोचिंग के लिए सीकर छोड़ने गए थे

मृतक विनोद अरोरा हनुमानगढ़ जिले कि संगरिया में ग्रामोथान विद्यापीठ संस्था के एसकेएम पब्लिक स्कूल में एलडीसी के पद पर थे। पत्नी रेनू भी यहां टीचर थी। बच्ची भी इसी स्कूल के 10वीं क्लास में पढ़ रही थी। परिवार बड़ी बेटी दीया को कोचिंग के लिए सीकर छोड़ने गए थे। सूनिता भाटी के दोनों बेटे पहले सीकर में पढ़ते हैं। वो उनसे मिलकर विनोद के परिवार के साथ वापस आ रही थी। चालक रामेश भी स्कूल में एलडीसी था।

(रिपोर्ट- सतीश गर्ग)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *