कर्मचारी आंदोलन के मूड में: कार्यालयों में काम कर रहे हैं ‘मास्टरजी’, कर्मचारी संगठनों ने विरोध जताते हुए आंदोलन की चेतावनी दी


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बीकानेर7 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

शिक्षा विभागीय कर्मचारी संघ के प्रदेश संरक्षक राजेश व्यास।

एक तरफ जहां स्कूलों में शिक्षकों की कमी है, बच्चे पढ़ने के लिए गुरुजनों का इंतजार कर रहे हैं, वहीं बीकानेर स्थित शिक्षा निदेशालय से लगभग हर जिले में लिपिकीय कार्य के लिए इन्हीं शिक्षकों की प्रतिनियुक्ति हो रही है। एक अनुमान के मुताबिक राज्यभर में सैकड़ों शिक्षक विभिन्न कार्यालयों में लिपिकीय कार्य कर रहे हैं। अब कर्मचारी संगठनों ने इन प्रतिनियुक्तियों के खिलाफ आंदोलन की चेतावनी दी है।

बीकानेर स्थित प्रारम्भिक शिक्षा निदेशालय, माध्यमिक शिक्षा निदेशालय के अलावा पंजीयक शिक्षा विभागीय कार्यालय के साथ ही प्रदेशभर के संयुक्त निदेशक, उप निदेशक व जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालयों में शिक्षकों का पदस्थापन है। इन शिक्षकों का वेतन स्कूल से उठता है लेकिन काम कार्यालयों में कर रहे हैं। ऐसे में न सिर्फ बच्चों की पढ़ाई बाधित हो रही है बल्कि मंत्रालयिक कर्मचारियों के पद भी खतरे में पड़ गए हैं।

अब होगा प्रदेशभर में विरोध

शिक्षा विभागीय कर्मचारी संघ के प्रदेश संरक्षक राजेश व्यास ने बताया कि शिक्षा विभाग के कार्यालयों में शैक्षिक स्टाफ की नियुक्ति के विरोध में अब आंदोलन होगा। अजमेर के केकड़ी में राज्यभर के कर्मचारी संगठन एकत्र हो रहे हैं। वहां इस मुद्दे के साथ प्रदेशभर में आंदोलन किया जाएगा। इसके अलावा वेतन से जुड़े कई मुद्दों पर भी आंदोलन की तैयारी की जा रही है।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *