उदयपुर पहुंचे परिवहन मंत्री: प्रताप सिंह ने अधिकारियों की लगाई क्लास, कहां – धरातल पर करें काम, नहीं तो भुगतने होंगे अंजाम


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

उदयपुर8 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

डिस्टिक मिनिरल फाऊंडेशन ट्रस्ट की बैठक लेते प्रभारी मंत्री प्रताप सिंह।

राजस्थान सरकार के परिवहन मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास गुरुवार को उदयपुर में एक्शन मोड में नजर आए। मैराथन बैठकों में जहां खाचरियावास ने अधिकारियों को लेकसिटी के विकास के लिए करोड़ों की वित्तीय स्वीकृति जारी की। वही लचर कार्यशैली के लिए अधिकारियों को लताड़ भी लगाई। इस दौरान प्रताप सिंह खाचरियावास ने उदयपुर के आरएनटी मेडिकल कॉलेज का औचक निरीक्षण भी किया।

उदयपुर सर्किट हाउस में जन सुनवाई करते हुए प्रभारी मंत्री प्रताप सिंह।

उदयपुर सर्किट हाउस में जन सुनवाई करते हुए प्रभारी मंत्री प्रताप सिंह।

खाचरियावास ने की DMFT बैठक की अध्यक्षता

उदयपुर के जिला परिषद सभागार में परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास के अध्यक्षता में डिस्ट्रिक्ट मिनरल फाउंडेशन ट्रस्ट की बैठक आयोजित हुई। बैठक में उदयपुर के MB अस्पताल के लिए 14 करोड की अत्याधुनिक MRI मशीन की स्वीकृति जारी की गई। इसके साथ ही बैठक में मंत्री खाचरियावास ने उदयपुर जिले के प्रत्येक विधायक को विकास कार्यों के लिए 6.5 करोड़ रुपए की वित्तीय स्वीकृति भी प्रदान की। इस दौरान राजस्थान विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया समेत उदयपुर जिले के विधायक मौजूद रहे।

इस दौरान प्रताप सिंह खाचरियावास ने उदयपुर में स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत किए जा रहे कार्यों पर नाराजगी जाहिर की। खाचरियावास ने कहा कि उदयपुर स्मार्ट सिटी के रूप में पहचान बनाने लगी है। ऐसे में यहां की सड़कों को छोटा करने की बजाय चौड़ा करना चाहिए। ताकि यहां के बाशिंदों के साथ यहां आने वाले देशी-विदेशी पर्यटकों को किसी तरह की परेशानी का सामना ना करना पड़े।

सुपर स्पेशलिटी विंग में मरीजों से बातचीत करते प्रताप सिंह।

सुपर स्पेशलिटी विंग में मरीजों से बातचीत करते प्रताप सिंह।

औचक निरीक्षण पर पहुंचे MB अस्पताल

परिवहन मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास गुरुवार दोपहर अचानक उदयपुर के महाराणा भोपाल चिकित्सालय पहुंचे। जहां उन्होंने सुपर स्पेशलिटी विंग का निरीक्षण किया। इस दौरान मंत्री खाचरियावास ने मरीजों से मिल उनकी समस्याओं को जाना है। वही कोरोना के बाद बदली व्यवस्था की चिकित्सकों से जानकारी भी ली।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *